क्यों आज भी जीवित हैं हनुमानजी?

WD| Last Updated: गुरुवार, 26 मार्च 2015 (17:03 IST)
चारों जुग परताप तुम्हारा, है परसिद्ध जगत उजियारा॥ संकट कटै मिटै सब पीरा, जो सुमिरै हनुमत बलबीरा॥ अंतकाल रघुवरपुर जाई, जहां जन्म हरिभक्त कहाई॥ > और देवता चित्त ना धरई, हनुमत सेई सर्व सुख करई॥>
 
FILE
चारों युग में हनुमानजी के ही परताप से जगत में उजियारा है। हनुमान को छोड़कर और किसी देवी-देवता में चित्त धरने की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि आज भी हनुमानजी हमारे बीच इस धरती पर सशरीर मौजूद हैं।

हनुमान इस कलियुग में सबसे ज्यादा जाग्रत और साक्षात हैं। कलियुग में हनुमान की भक्ति ही लोगों को दुख और संकट से बचाने में सक्षम है। बहुत से लोग किसी बाबा, देवी-देवता, ज्योतिष और तांत्रिकों के चक्कर में भटकते रहते हैं, क्योंकि वे हनुमान की भक्ति-शक्ति को नहीं पहचानते। ऐसे भटके हुए लोगों का राम ही भला करे।

मारुति नंदन सतयुग, त्रेता, द्वापर और कलयुग में कब-कब कहां-कहां और किस-किस स्वरूप में किन लोगों के समक्ष प्रकट हुए, यह जानते हैं अगले पन्नों पर।

 

दूसरे पन्ने पर सतयुग में हनुमान...



और भी पढ़ें :