फिल्म अभिनेत्री सोहा अली खान की अपील

मुंबई (वार्ता)| वार्ता| पुनः संशोधित मंगलवार, 8 जुलाई 2008 (17:30 IST)
हमें फॉलो करें
फिल्म अभिनेत्री सोहा अली खान ने फिल्मी बिरादरी से अपील की कि सांप्रदायिक सद्भाव बढ़ाने में बॉलीवुड अपनी भूमिका निभाए।


गैर सरकारी संगठन सिटीजंस काउंसिल फॉर ए बेटर टुमारो और मीडिया समूह यूटीवी के विशेष सांप्रदायिक सद्भाव अभियान 'मुंबई मेरी जान' शुरू किए जाने के अवसर पर सोहा ने कहा कि देश में फिल्में मनोरंजन का लोकप्रिय माध्यम हैं और ये लोगों की सोच बदलने में प्रभावी भूमिका निभा सकती हैं।

'रंग दे बसंती' की नायिका सोहा ने कहा कि पहले उन्हें भी लगता था कि बॉलीवुड केवल मनोरंजन के लिए है लेकिन अब उन्हें लगता है कि इस सशक्त माध्यम का इस्तेमाल महत्वपूर्ण मुद्दों पर जनमत बनाने के लिए किया जा सकता है।

अभिनेत्री शर्मिला टैगोर और क्रिकेटर मंसूर अली खान पटौदी की बेटी सोहा ने कहा कि उनके माता-पिता अलग-अलग मजहब से हैं और वे धर्मनिरपेक्ष भारत का प्रतिनिधित्व करती हैं।


बढ़ते आतंकवाद का जिक्र करते हुए उन्होंने आम जनता के साथ मीडिया से भी सांप्रदायिक सद्भाव बढ़ाने की दिशा में कार्य करने का आह्वान करते हुए कहा कि शांति इतनी महत्वपूर्ण है कि इसे केवल सरकार पर नहीं छोड़ा जा सकता।
इससे पहले मुंबई के पूर्व शेरिफ एफटी खोराकीवाला ने कहा कि हिन्दू-मुस्लिम एकता समय की माँग है। उन्होंने कहा कि अँगरेजों ने हमारे बीच फूट डाली लेकिन स्वतंत्र भारत के नेताओं ने भी अब इस कला में महारत हासिल कर ली है।

उन्होंने कहा कि आतंकवाद का राजनीतिक एजेंडा होता है और सांप्रदायिकता का इस्तेमाल देश को विभाजित करने के लिए किया जाता है। उन्होंने लोगों से प्रशासन को आतंकवाद से निबटने में सहयोग की अपील की।



और भी पढ़ें :