अशांति की आग पर सिकती सियासी रोटी

भाजपा ने की राज्यपाल की आलोचना

जम्मू (भाषा)| भाषा|
भाजपा ने कहा है कि जम्मू क्षेत्र में हालात को शांत करने का एकमात्र उपाय है श्री अमरनाथ संघर्ष समिति (एसएएसएस) की सच्ची माँगों को मान लिया जाए। उसने जम्मू क्षेत्र को छावनी में तब्दील करने के लिए राज्यपाल एनएन वोहरा की आलोचना भी की।


भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अशोक खजुरिया ने यहाँ कहा यह गंभीर चिंता का मामला है कि राज्यपाल कश्मीर में भारत विरोधी तत्वों से मुकाबला करने और उन्हें कुचलने के बजाय प्रांत में और सेना बुलाने तथा हेलीकाप्टर का इस्तेमाल करने की योजना बना रहे हैं, ताकि जनांदोलन को कुचला जा सके।

उन्होंने आरोप लगाया शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के खिलाफ समूचे प्रांत में अनावश्यक बर्बरता की नीति बरती जा रही और इससे हालात और बिगड़ जाएँगे, क्योंकि लोग अपनी माँगों को हासिल करने के लिए दृढ़प्रतिज्ञ हैं।

उनका कहना था कि राज्यपाल के पद पर वोहरा का बने रहना हालात को और जटिल बनाएगा। केंद्र को उन्हें अविलंब पद से हटाना चाहिए, ताकि जम्मू में अनुकूल माहौल बनाने में मदद की जा सके।


लोगों की आवाजाही पर पाबंदी और कर्फ्यू को हटाने की माँग करते हुए प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा हालात को शांत करने का एकमात्र उपाय है कि एसएएसएस की सच्ची माँगों को मान लिया जाए।
हालात को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश : जम्मू-कश्मीर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने अलगाववादियों समेत कुछ कश्मीरी नेताओं द्वारा जम्मू क्षेत्र में हालात को सांप्रदायिक रंग देने का प्रयास करने की भर्त्सना की।

कुछ निहित स्वार्थी तत्वों द्वारा काफी भड़काऊ और सांप्रदायिक बयान देने पर कड़ी आपत्ति जताते हुए पार्टी ने कहा कि इस तरह के कदम सोची-समझी साजिश के तहत उठाए जा रहे हैं, जिनका उद्देश्य जम्मू क्षेत्र में सांप्रदायिक समस्या को बढ़ाना है।
पार्टी ने कहा कश्मीर के निहित स्वार्थी तत्वों और सीमा पार के उनके आकाओं की मंशा पिछली आधी शताब्दी में सफल नहीं हो सकी और उनकी घृणित मंशा को इस बार भी नाकाम कर दिया जाएगा।



और भी पढ़ें :