व्यापमं घोटाले का प्रमुख आरोपी ढाई करोड़ का मालिक

इंदौर| भाषा| पुनः संशोधित बुधवार, 29 जनवरी 2014 (23:54 IST)
हमें फॉलो करें
FILE
इंदौर। में पुलिस के लोकायुक्त दस्ते ने (व्यापमं) के पूर्व परीक्षा नियंत्रक पंकज त्रिवेदी के ठिकानों पर बुधवार को छापे मारे और उसकी करीब ढाई करोड़ रुपए की बेहिसाब संपत्ति के खुलासे का दावा किया।


त्रिवेदी व्यापमं की आयोजित भर्ती और प्रवेश परीक्षाओं में भारी घोटाले का प्रमुख आरोपी है। के सूत्रों ने बताया कि व्यापमं के पूर्व परीक्षा नियंत्रक के खिलाफ कथित भ्रष्टाचार से बेहिसाब दौलत बनाने की शिकायत मिली थी। इस शिकायत पर उसके और भोपाल स्थित घरों पर एक साथ छापामार मुहिम छेड़ी गई।
सूत्रों ने बताया कि लोकायुक्त पुलिस की अब तक की छानबीन में पता चला है कि करीब 28 साल सरकारी सेवा में रहने वाला त्रिवेदी लगभग ढाई करोड़ रुपए के मूल्य वाली चल-अचल संपत्ति का मालिक है। यह संपत्ति उसकी आय के ज्ञात जरियों के लिहाज से कहीं ज्यादा है।


सूत्रों के मुताबिक लोकायुक्त पुलिस के छापों के दौरान खुलासा हुआ कि व्यापमं के पूर्व परीक्षा नियंत्रक की बेहिसाब संपत्ति में दो मकान, एक भूखंड और करीब साढ़े पांच हेक्टेयर कृषि भूमि शामिल हैं। उसके घर से मिले दस्तावेजों से पता चला कि इंदौर के एक निजी महाविद्यालय में उसकी भागीदारी है।

सूत्रों ने बताया कि इंदौर के विनय नगर में त्रिवेदी के दो मंजिला आलीशान बंगले पर जब अलसुबह छापा मारा गया, तब उसकी पत्नी इस ठिकाने में मौजूद थी। लोकायुक्त पुलिस के दल को व्यापमं के पूर्व परीक्षा नियंत्रक के बंगले में ढाई लाख रुपए कीमत के आभूषण मिले। इतनी ही कीमत के जेवरात पंजाब नेशनल बैंक की एक शाखा में उसके लॉकर से बरामद किए गए।
सूत्रों के मुताबिक व्यापमं घोटाले की जांच पुलिस का विशेष कार्यबल (एसटीएफ) कर रहा है। एसटीएफ त्रिवेदी के निवास से 25 लाख रुपए की नकदी पहले ही जब्त कर चुका है। सूत्रों ने बताया कि त्रिवेदी के भोपाल स्थित ठिकानों पर लोकायुक्त पुलिस की तलाशी जारी है। उसकी संपत्ति का विस्तृत मूल्यांकन किया जा रहा है।

एसटीएफ ने त्रिवेदी को पिछले साल सितंबर में प्री. मेडिकल टेस्ट (पीएमटी) में फर्जीवाड़े के सिलसिले में गिरफ्तार किया था। जब इस मामले की जांच की गर्इ, तो व्यापमं की आयोजित अलग-अलग प्रवेश और भर्ती परीक्षाओं में भी उसकी कथित भूमिका सामने आई। त्रिवेदी फिलहाल न्यायिक हिरासत के तहत जेल में बंद है। (भाषा)



और भी पढ़ें :