गिल ने आलोचनाओं को किया खारिज

नई दिल्ली (भाषा) | भाषा| पुनः संशोधित मंगलवार, 8 अप्रैल 2008 (22:55 IST)
हमें फॉलो करें
नवनियुक्त ने संवैधानिक पद संभालने के बाद मंत्री बनने के लिए हो रही आलोचनाओं को खारिज करते हुए मंगलवार को यहाँ कहा कि वह इस मुद्दे पर अपने आलोचकों को बाद में जवाब देंगे।


मुख्य निर्वाचन आयुक्त का संवैधानिक पद संभालने के बाद मंत्रीपद स्वीकार करने पर आलोचकों के निशाने पर आए गिल ने कहा कि उन्होंने वह पद स्वीकार किया, जिसकी उन्हें पेशकश की गई।

गिल ने कहा कि मुझे मंत्री बनने का प्रस्ताव मिला मैं स्वयं अपने को मंत्री नहीं बना सकता। लेकिन निश्चित तौर पर प्रस्ताव को स्वीकार करने का फैसला मेरा था। मैं जो भी फैसला करता हूँ उसे पूरी प्रतिबद्धता के साथ करता हूँ और उस पर डटा रहता हूँ। आज मैं किसी को (आलोचनाओं का) कोई जवाब नहीं दूँगा।

भारतीय जनता पार्टी ने गिल को केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल करने पर सवाल उठाते हुए कहा था कि यह एक गलत परंपरा की शुरुआत होगी।


पार्टी प्रवक्ता प्रकाश जावडेक़र ने कहा था कि संवैधानिक पद पर काम कर चुके व्यक्ति को पहले सांसद और बाद में मंत्री बनाए जाने से निश्चित रूप से औचित्य पर प्रश्न उठता है, क्योंकि इसकी व्याख्या पूर्व में किए गए कामों का पुरस्कार दिए जाने के रूप में की जा सकती हैं।



और भी पढ़ें :