मनमोहन ने बालू का बचाव किया

नई दिल्ली (भाषा)| भाषा|
प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह ने बुधवार को कहा कि उनके कार्यालय ने टीआर बालू मामले में ऐसा कोई असामान्य कार्य नहीं किया है, जिससे विवाद खड़ा हो सके।


सिंह ने अपने निवास पर एक समारोह के मौके पर कहा कि कुछ भी असामान्य नहीं है। मंत्री (मुरली देवड़ा) ने संसद में सब कुछ स्पष्ट कर दिया है।

यह पूछे जाने पर कि क्या वे विवाद से दूरी बना रहे हैं, उन्होंने पलटकर कहा दूरी बनाने के लिए क्या है। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री मुरली देवड़ा ने राज्यसभा में कहा कि प्रधानमंत्री कार्यालय ने बालू के परिजन की किसी कंपनी की मदद के लिए कोई आदेश जारी नहीं किया है। उन्होंने कहा कि जहाजरानी मंत्री के पुत्र के ज्ञापन के आधार पर कुछ रेफरेंस किया था।

संसद में हंगामा : पिछले कई दिनों से संसद में विपक्ष के हंगामे का कारण बने बालू से जुड़े मामले पर सरकार ने राज्यसभा में सफाई दी कि प्रधानमंत्री कार्यालय ने बालू के परिजनों से जुड़ी कंपनी की मदद के लिए कोई आदेश या दिशा-निर्देश जारी नहीं किया।


मनमोहन पर बरसे आडवाणी : भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने कहा कि प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह की व्यक्तिगत ईमानदारी पर तो कोई शक नहीं है, लेकिन वे अपनी सरकार में शुचिता सुनिश्चित करने में कामयाब नहीं रहे हैं।
विपक्ष के नेता ने बालू मुद्दे का सहारा लेकर प्रधानमंत्री पर प्रहार किया। उन्होंने संसद में बयान देने संबंधी विपक्ष की माँग पर प्रधानमंत्री के खामोशी साधने पर खिंचाई की। उन्होंने कहा मेरा मानना है कि न तो प्रधानमंत्री और न ही मंत्री संसदीय लोकतंत्र में स्थापित राष्ट्रीय मानदंडों का पालन कर रहे हैं।



और भी पढ़ें :