राष्ट्रीय पर्व नहीं है स्वतंत्रता दिवस

लखनऊ| भाषा|
FILE
देश में सरकारी स्तर पर तामझाम के साथ मनाए जाने वाले स्वतंत्रता दिवस, गांधी जयंती और आधिकारिक रूप से राष्ट्रीय पर्व नहीं हैं। खुद सरकार ने कानून के तहत मांगी गई जानकारी में यह बात कही है।


लखनऊ की एक छात्रा ऐश्वर्या पाराशर ने गत 25 अप्रैल को आरटीआई अर्जी भेजकर प्रधानमंत्री कार्यालय से 15 अगस्त, दो अक्तूबर और 26 जनवरी को राष्ट्रीय पर्व घोषित किए जाने संबंधी आदेश की सत्यापित प्रति मांगी थी।

गत 17 मई को गृह मंत्रालय द्वारा भेजे गए जवाब में 15 अगस्त, दो अक्तूबर और 26 जनवरी को राष्ट्रीय पर्व घोषित किए जाने संबंधी आदेश के बारे में स्पष्ट कहा गया है कि इस तरह का कोई आदेश जारी नहीं किया गया है।

ऐश्वर्या के मुताबिक उसने गत 31 जुलाई को राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी को लिखे पत्र में कहा कि उसने 28 मई को गृह मंत्रालय को भेजी गई अपील में कहा था कि उससे सम्भवत: आरटीआई अर्जी का जवाब देने में कुछ गलती हो गई है। हालांकि 21 जून को उसे फिर पुराना जवाब मिला और उसके पत्र को राष्ट्रीय अभिलेखागार के पास भेज दिया गया।

छात्रा ने बताया कि उसने मुखर्जी को लिखे पत्र में कहा है कि राष्ट्रीय अभिलेखागार ने गत 23 जुलाई को भेजे गए जवाब में जानकारी दी है कि उसके पास 15 अगस्त, दो अक्तूबर और 26 जनवरी को राष्ट्रीय पर्व घोषित किए जाने संबंधी कुछ फाइलें तो हैं लेकिन कोई सरकारी आदेश उसके पास भी नहीं है।

ऐश्वर्या ने राष्ट्रपति से 15 अगस्त, दो अक्तूबर और 26 जनवरी को राष्ट्रीय पर्व घोषित करने सम्बन्धी सरकारी आदेश जारी करने का अनुरोध किया है। (भाषा)



और भी पढ़ें :