भारत के पास विंडीज से बदला चुकाने का मौका

पोर्ट ऑफ स्पेन| वार्ता| पुनः संशोधित गुरुवार, 2 जून 2011 (19:25 IST)
प्रतिभाशाली बल्लेबाज सुरेश रैना के नेतृत्व में भारत की युवा टीम के पास शनिवार को यहां होने वाले एकमात्र अंतरराष्ट्रीय ट्‍वेंटी-20 मैच में पुरानी दो पराजयों का बदला चुकाने का मौका रहेगा।


भारत का अपनी जमीन पर विश्वकप और आईपीएल का चौथा संस्करण समाप्त होने के बाद यह पहला विदेशी दौरा है। भारतीय टीम के कई सीनियर खिलाड़ी इस समय विश्राम कर रहे हैं और उन्होंने खुद को इस दौरे से अलग रखा है जबकि कुछ खिलाड़ी चोटों के कारण इस दौरे के लिए नहीं चुने गए।

इस ट्वेंटी-20 मैच और इसके बाद पांच वनडे की सिरीज के लिए टीम इंडिया की कप्तान गौतम गंभीर को करनी थी लेकिन उनके कंधे की चोट के कारण कप्तानी की जिम्मेदारी रैना के मजबूत कंधों पर आ गई। रैना के लिए टीम इंडिया की कप्तानी संभालने का यह दूसरा मौका है। इससे पहले उन्होंने जिम्बाब्वे में त्रिकोणीय श्रृंखला में भारतीय टीम का नेतृत्व किया था।

भारत और वेस्टइंडीज के बीच अब तक दो ट्वेंटी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले गए हैं लेकिन दोनों में ही भारत को हार का सामना करना पड़ा है। वेस्टइंडीज ने 12 जून 2009 को लार्ड्स में भारत को सात विकेट से हराया था और फिर नौ मई 2010 को ब्रिजटाउन में भारत को 14 रन से शिकस्त दी थी।


इंग्लैंड में हुए ट्‍वेंटी-20 विश्वकप के मुकाबले में भारत ने युवराज सिंह के 67 रन की मदद से सात विकेट पर 153 रन बनाए जबकि वेस्टइंडीज ने ड्वेन ब्रावो के नाबाद 66 रन से तीन विकेट पर 156 रन बनाकर मैच जीत लिया।
गत वर्ष कैरेबियाई जमीन पर हुए विश्वकप में वेस्टइंडीज ने कप्तान और ओपनर क्रिस गेल के 98 रनों की बदौलत छह विकेट पर 169 रन बनाए। भारतीय टीम इसके जवाब में नौ विकेट पर 155 रन ही बना सकी।

भारत के लिए इस बार राहत की बात है कि उसके सामने गेल नहीं होंगे जिन्हें वेस्टइंडीज के चयनकर्ताओं ने आपसी मतभेद के कारण टीम में नहीं चुना है। गेल ने हाल ही में आईपीएल-चार में विस्फोटक बल्लेबाजी करते हुए 600 से ज्यादा रन बनाए थे और टूर्नामेंट में सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी रहे थे।
टीम इंडिया के कप्तान रैना ने इस दौरे के लिए रवाना होने से पहले कहा था कि भारतीय टीम विश्वकप के अपने शानदार प्रदर्शन को कैरेबियाई जमीन पर भी बरकरार रखेगी।

रैना ने कहा था कि टीम में कई युवा प्रतिभाशाली खिलाड़ी शामिल हैं जिन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा दिखाने का शानदार मौका मिला है। उन्होंने कहा कि जो युवा खिलाड़ी टीम में शामिल किए गए हैं। उन्होंने प्रथम श्रेणी मैचों में बेहतरीन प्रदर्शन किया है और यह दौरा उनके लिए शानदार अवसर है। (वार्ता)



और भी पढ़ें :