धोनी कप्तानी के सवालों को टाल गए

पुणे| भाषा| पुनः संशोधित बुधवार, 19 दिसंबर 2012 (19:35 IST)
FILE
इंग्लैंड के हाथों टेस्ट श्रृंखला में 1-2 की शर्मनाक हार के बाद आलोचकों के निशाने पर रहे भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अलग प्रारूप के लिए अलग कप्तान नियुक्त करने संबंधी चर्चा पर बुधवार को यहां टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।


धोनी से जब स्थानीय पत्रकार ने इस संबंध में चल रही चर्चा के बारे में पूछा तो उनका सीधा जवाब था, आपका सवाल मुझे लगता है कि अलग प्रारूप के लिए अलग कप्तान से जुड़ा है, लेकिन अभी टी-20 प्रारूप की बात करें, क्योंकि हमें गुरुवार को टी-20 मैच खेलना है। धोनी इस मसले से पल्ला झाड़ना चाहते थे और इसका सबूत फिर से तब मिला, जब उन्होंने ब्रिटिश पत्रकार को भी इसी तरह से कड़े अंदाज में जवाब दिया।
भारतीय कप्तान ने कहा, इस महत्वपूर्ण श्रृंखला के शुरू होने से पहले मैं इस पर टिप्पणी नहीं करना चाहता था, क्योंकि जब भारतीय क्रिकेट की बात होती है, यदि सब कुछ अनुकूल नहीं हुआ तो कप्तानी, सीनियर खिलाड़ियों, जूनियर खिलाड़ियों और हमारे पास मौजूद कौशल और बेंच स्ट्रेंथ को लेकर सवाल उठने शुरू हो जाते हैं। कई तरह के सवाल खड़े कर दिए जाते हैं और यदि आप सभी का जवाब देने लगो तो मुझे लगता है कि हमारे पास समय की कमी पड़ जाएगी।
धोनी ने भारत की असफलता से जुड़े कड़े सवालों से भी बचने की कोशिश की। उन्होंने कहा, मेरा हमेशा से यही कहना रहा है कि जो हो गया, उस पर बात करने का कोई मतलब नहीं बनता। चाहे हम जीते हों या हमें हार मिली है। वर्तमान के बारे में सोचना ज्यादा महत्वपूर्ण होता है तथा आगामी प्रारूप बहुत अलग है। उस पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है। (भाषा)



और भी पढ़ें :