गंभीर और सहवाग अब भी अहम-सुनील गावस्कर

नई दिल्ली| वार्ता| पुनः संशोधित शुक्रवार, 7 जून 2013 (16:38 IST)
FILE
नई दिल्ली। पूर्व कप्तान का भले ही मानना हो कि युवा खिलाड़ियों की मौजूदगी से सहवाग और गंभीर की कमी टीम में महसूस नहीं हो रही है लेकिन इससे इत्तेफाक नहीं रखते हैं और उनका कहना है कि इन अनुभवी खिलाड़ियों का आज भी अपना महत्व है


पूर्व कप्तान ने कहा कि जीत के साथ शुरुआत करना हमेशा अच्छा होता है लेकिन टीम को अभी भी अपने प्रदर्शन में सुधार की काफी जरूरत है। खासतौर पर गेंदबाजों को अपने प्रदर्शन में बदलाव लाना होगा, क्योंकि यदि आप विपक्षी टीम को 300 के पार स्कोर बनाने का मौका देते हैं तो इससे साफ है कि आपने अच्छी गेंदबाजी नहीं की है।

गावस्कर ने शतक लगाने वाले (114) और रोहित शर्मा (65) की प्रशंसा की और इसकी तुलना टीम से बाहर किए गए और के बीच खेली गई शतकीय पारी से की।

उन्होंने कहा कि शिखर और रोहित का प्रदर्शन अच्छा था लेकिन टीम के सीनियर खिलाड़ियों गंभीर और सहवाग की कमी अभी भी महसूस होती है और उनकी जगह भरने के लिए इन युवा खिलाड़ियों को अभी और मेहनत करने की जरूरत है।


इससे उलट 1983 की विश्व कप विजेता टीम के कप्तान कपिल देव ने कहा था कि शिखर और रोहित की पारियों के बाद कोई भी सहवाग, सचिन तेंदुलकर व गंभीर की कमी को महसूस नहीं कर रहा है। (वार्ता)



और भी पढ़ें :