विंदू दारा सिंह का दावा, पूरा आईपीएल ही 'फिक्स'

नई दिल्ली| वार्ता| पुनः संशोधित मंगलवार, 25 फ़रवरी 2014 (20:34 IST)
FILE
नई दिल्ली। आईपीएल-6 के कथित तौर पर सट्टेबाजी में शामिल फिल्म अभिनेता ने खुलासा किया है कि पूरा टूर्नामेंट ही फिक्स है और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के मालिक विजय माल्या भी इसमें शामिल थे।


एक चैनल के स्टिंग ऑपरेशन में विंदू ने यह सनसनीखेज खुलासा किया है। स्टिंग में उन्होंने रिपोर्टर से कहा कि में असली लड़ाई भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष विंदू दारा सिंह और पूर्व कमिश्नर ललित मोदी के बीच चल रही है।
विंदू ने कहा कि यह पूरा मामला और मोदी के बीच का है और हमारा इससे कोई लेना-देना नहीं है। मोदी तो श्रीनिवासन को बाहर करने का मौका तलाश रहे हैं। विंदू ने दावा किया कि वे सट्टेबाजी में शामिल थे और श्रीनिवासन तक पहुंचने के लिए उन्हें मोहरे की तरह इस्तेमाल किया जा रहा है।

उन्होंने कहा, उन्होंने (पुलिस) ने कहा कि हम जानते हैं कि आपने कुछ नहीं किया है लेकिन शरद पवार साहब का दबाव है। जब तक श्रीनिवासन नहीं धरे जाते हैं आपको रहना पड़ेगा। आपको 10-15 दिन या एक महीने यहां रहना पड़ सकता है। विंदू को मुंबई पुलिस ने आईपीएल-6 में सट्टेबाजी के आरोप में गिरफ्तार किया था।

स्टिंग ऑपरेशन में विंदू ने दावा कि सट्टेबाजी में श्रीनिवासन के दामाद गुरुनाथ मयप्पन को भारी नुकसान हुआ था। यह पूछने पर कि उन्हें क्यों माध्यम बनाया गया? विंदू ने कहा कि गुरुनाथ श्रीनिवासन के दामाद हैं और अगर उनके खिलाफ कुछ साबित होता है तो...

विंदू ने साथ ही दावा किया कि पूरा का पूरा आईपीएल फिक्स है और वह एक ऐसे टीम मालिक को जानते हैं, जो सीधे तौर पर सट्टेबाजी में शामिल है। वह हैं विजय माल्या। उन्होंने कहा कि विजय माल्या को छोड़कर किसी को कुछ पता नहीं है। माल्या खुद सट्टेबाजी में शामिल हैं और उन्होंने आईपीएल में 100-200 करोड़ रुपए की कमाई की है।
उन्होंने कहा कि पवार के कार्यकाल में आईपीएल की शुरुआत करने वाले ललित मोदी ने आईपीएल को दक्षिण अफ्रीका ले जाकर कांग्रेस को नाराज कर दिया था। पवार के समर्थन से मोदी ही शशि थरूर को एक टीम के निवेशक के तौर पर आईपीएल में लाए थे और यही इस सट्टेबाजी का आधार था। (वार्ता)



और भी पढ़ें :