कमजोर गेंदबाजी के कारण हारे-धोनी

कोलंबो (भाषा)| भाषा|
हमें फॉलो करें
भारतीय कप्तान महेंद्रसिंह धोनी ने श्रीलंका के हाथों पाँचवें और अंतिम एकदिवसीय मैच में मिली 68 रनों की हार का ठीकरा गेंदबाजों के सिर फोड़ा। इस हार के कारण टीम का लगातार नौ मैच में जीत का अभियान रूक गया।


ने अपने प्रमुख खिलाड़ियों तेज गेंदबाज जहीर खान, स्पिनर प्रज्ञान ओझा और बल्लेबाज सचिन तेंडुलकर को विश्राम दिया, लेकिन धोनी ने कहा युवा खिलाड़ियों को आजमाना जरूरी था, क्योंकि टीम पहले ही श्रृंखला जीत चुकी थी।

धोनी ने कहा हमारी गेंदबाजी मजबूत नहीं थी, लेकिन उन खिलाड़ियों के साथ उतरना अच्छा था, जिन्हें अभी तक मौका नहीं मिला था। रविंदर जडेजा को मौका मिला और उन्होंने ने देखा कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट क्या होता है और कभी-कभी यह कितना कड़ा बन सकता है।

उन्होंने कहा टीम का मनोबल ऊँचा है। ड्रेसिंग रूम का माहौल अच्छा रहना बहुत मायने रखता है। खिलाड़ी एक दूसरे का समर्थन कर रहे हैं और हर एक की सफलता का लुत्फ उठा रहे हैं।


धोनी ने कहा जब भी मुझे उनकी जरूरत पड़ती है, वे प्रदर्शन करने के लिए वहाँ रहते हैं चाहे वह बल्लेबाज हो या गेंदबाज। इसलिए मैं इस जीत को अपने साथियों को समर्पित कर रहा हूँ। आशा है हम और टूर्नामेंट जीतना जारी रखेंगे।
युवराजसिंह को श्रृंखला में पाँच मैच में 284 रन बनाने के लिए मैन ऑफ द सिरीज चुना गया। उन्होंने अपने प्रदर्शन का श्रेय सचिन तेंडुलकर से मिले टिप्स को दिया।

युवराज ने कहा यह मेरा लगातार दूसरा पुरस्कार है, लेकिन पिछली बार यहाँ मेरा प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा। स्पिनरों को खेलने को लेकर थोड़ी आशंका थी। सचिन और कोचिंग स्टाफ का मैं बहुत आभारी हूँ, जिन्होंने मुझे मेरी क्षमता के अनुरूप खेलने में मदद की।
श्रीलंका के विकेटकीपर बल्लेबाज कुमार संगकारा को 84 रन बनाने के अलावा विकेट के पीछे भी अच्छे प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया।



और भी पढ़ें :