आईसीसी अवॉर्ड पाने वाले नौवें भारतीय हैं कोहली

नई दिल्ली| भाषा| पुनः संशोधित रविवार, 16 सितम्बर 2012 (20:50 IST)
PTI
विराट कोहली पिछले नौ वर्षों में हासिल करने वाले नौवें बन गए हैं। कोहली को कल कोलंबो में वर्ष का चुना गया। कप्तान महेंद्रसिंह धोनी के बाद यह पुरस्कार हासिल करने वाले वह दूसरे भारतीय हैं।

आईसीसी वार्षिक पुरस्कारों की शुरुआत 2004 में की गई थी। इन नौ वषरें में तीन साल ऐसे भी रहे, जिनमें किसी भी भारतीय खिलाड़ी को उनके प्रदर्शन के लिये पुरस्कार नहीं मिला। वर्ष 2012 में भी कोहली अकेले भारतीय थे जिन्हें पुरस्कार मिला। कोहली ने पिछले एक वर्ष में 31 वनडे मैचों में 66.65 की औसत से 1733 रन बनाए थे।

धोनी, स्टार क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर और राहुल द्रविड़ दो-दो आईसीसी पुरस्कार हासिल कर चुके हैं। इनके अलावा जिन अन्य भारतीयों को आईसीसी अवॉर्ड मिला है उनमें इरफान पठान, महिला क्रिकेटर झूलन गोस्वामी, युवराज सिंह, गौतम गंभीर और वीरेंद्र सहवाग शामिल हैं।
आईसीसी ने 2004 में जब पुरस्कारों की शुरुआत की थी तो भारत ने एक तरह से क्लीन स्वीप किया था। तब क्रिकेटरों के लिए चार पुरस्कार थे और इनमें से तीन पुरस्कार भारतीयों ने जीते थे। द्रविड़ को तब वर्ष का सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर और सर्वश्रेष्ठ टेस्ट क्रिकेटर के दो पुरस्कार मिले थे जबकि पठान उदीयमान खिलाड़ी का पुरस्कार पाने में सफल रहे थे।
लेकिन इसके बाद अगले दो वर्ष में कोई भी भारतीय क्रिकेटर पुरस्कार पाने वाले खिलाड़ियों की सूची में अपना नाम नहीं लिखवा पाया। यहां तक कि 2007 में किसी पुरुष भारतीय क्रिकेटर को अवॉर्ड नहीं मिला। उस साल झूलन सर्वश्रेष्ठ महिला खिलाड़ी बनकर पुरस्कारों की सूची में भारत का नाम दर्ज कराने में सफल रही थी।

तेंडुलकर ने आईसीसी अवार्ड पाने वाले खिलाड़ियों की सूची में पहली बार अपना नाम 2010 में दर्ज कराया था जब उन्होंने क्रिकेटर आफ द ईयर के अलावा लोगों का पसंदीदा खिलाड़ी का पुरस्कार (पीपुल्स च्वाइस अवॉर्ड) मिला था। इसी वर्ष सहवाग को सर्वश्रेष्ठ टेस्ट क्रिकेटर चुना गया था। पिछले साल यानि 2011 में हालांकि कोई भी भारतीय क्रिकेटर पुरस्कार सूची में अपना नाम दर्ज नहीं करवा पाया था।
कप्तान धोनी ने जरूर टीम के लिए स्प्रिट ऑफ क्रिकेट अवॉर्ड हासिल किया था। जहां तक वर्ष का सर्वश्रेष्ठ एकदिवसीय क्रिकेटर का सवाल है तो कोहली से पहले यह पुरस्कार इंग्लैंड के एंड्रयू फ्लिंटॉफ (2004) और केविन पीटरसन (2005), ऑस्ट्रेलिया के माइकल हसी (2006) और मैथ्यू हेडन (2007), महेंद्र सिंह धोनी (2008 और 2009), दक्षिण अफ्रीका के एबी डी'विलियर्स (2010) और श्रीलंका के कुमार संगकारा (2011) हासिल कर चुके हैं।
संगकारा को इस साल वर्ष का सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर, टेस्ट क्रिकेटर और पीपुल्स च्वाइर्स अवॉर्ड मिला है। वह दूसरे ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने एक साल में तीन पुरस्कार हासिल किए। उनसे पहले 2006 में ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग को वर्ष का क्रिकेटर, टेस्ट क्रिकेटर और सर्वश्रेष्ठ कप्तान का पुरस्कार मिला था। सर्वश्रेष्ठ कप्तान का पुरस्कार हालांकि 2007 के बाद खत्म कर दिया गया था। (भाषा)



और भी पढ़ें :