महिलाएँ भी चाहती हैं आईपीएल

नई दिल्ली (भाषा) | भाषा| पुनः संशोधित मंगलवार, 5 मई 2009 (16:53 IST)
हमें फॉलो करें
इंग्लैंड में अगले महीने होने वाली विश्व ट्वेंटी-20 चैंपियनशिप की तैयारी के लिए अभ्यास शिविर का इंतजार कर रही भारतीय महिला क्रिकेटरों ने बीसीसीआई से महिलाओं के लिए भी इंडियन प्रीमियर लीग जैसा वार्षिक टूर्नामेंट आयोजित करने की अपील की है।


चोटी की बल्लेबाज अंजुम चोपड़ा विश्व कप के लिए चुनी ई टीम की उपकप्तान अमिता शर्मा और मध्यक्रम की बल्लेबाज रीमा मल्होत्रा उनमें शामिल हैं, जिन्होंने कहा में हो रहे निरंतर सुधार को देखते हुए महिलाओं के लिए की उम्मीद बन गई है।
भारतीय टीम की सबसे अनुभवी क्रिकेटर अंजुम ने कहा क्रिकेट निरंतर विकास कर रहा है और टी-20 उसी का एक हिस्सा है। महिलाएँ भी इससे जुड़ी हैं और निश्चित तौर पर महिलाओं के लिए भी इस तरह का टूर्नामेंट जरूरी है।


भारत की तरफ से 12 टेस्ट और 116 एकदिवसीय खेल चुकीं बाएँ हाथ की इस सलामी बल्लेबाज को लगता है कि यदि टीम इंग्लैंड में अच्छा प्रदर्शन करती है तो ऐसे टूर्नामेंट की संभावना बढ़ जाएगी।

उन्होंने कहा मुझे लगता है कि जिस तरह से आईसीसी ने महिला क्रिकेट को अपनाया और बीसीसीआई जिस तरह से लगातार हमें बढ़ावा दे रहा है, उससे भविष्य में ऐसा टूर्नामेंट हो सकता है।

जहाँ तक भारत में ऐसे टूर्नामेंट का सवाल है तो मुझे लगता है कि इसके लिए हमारा इंग्लैंड में विश्व कप जीतना बहुत जरूरी है। इससे देश में महिला क्रिकेटरों को भी लोकप्रियता मिलेगी।
भारतीय महिला टीम के लिए ट्वेंटी-20 एक तरह से नया प्रारूप है। भारत ने पिछले तीन साल के अंदर केवल दो ट्वेंटी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं।

भारतीय उपकप्तान और मध्यम गति की गेंदबाज अमिता शर्मा को इस नए प्रारूप के कम अनुभव को देखकर ही लगता है कि महिलाएँ आईपीएल में पुरुष टीम को देखकर सीखने के बजाय खुद ऐसा टूर्नामेंट खेलें तो बेहतर होगा।
उन्होंने कहा मुझे लगता है कि महिलाओं को भी आईपीएल की सख्त जरूरत है। यह पुरुषों के साथ ही आयोजित किया जा सकता है। अभी हम दक्षिण अफ्रीका में चल रहे आईपीएल में पुरुषों के मैच देख रहे हैं, लेकिन इससे हम कोई रणनीति नहीं बना सकते। हम उन्हें देखकर सीखने की कोशिश करें। इससे बेहतर यही होगा कि हमारा भी ऐसा टूर्नामेंट हो।

भारतीय मध्यक्रम की बल्लेबाज रीमा मल्होत्रा ने उम्मीद जताई कि आईपीएल जब अच्छी तरह से अपने पाँव जमा लेगा तो बीसीसीआई महिलाओं के लिए भी ऐसा टूर्नामेंट आयोजित करने पर विचार करेगा।
दोनों ट्वेंटी-20 मैच में भारत की सदस्य रही मल्होत्रा ने कहा अभी आईपीएल का दूसरा सत्र चल रहा है और जब यह विश्व क्रिकेट का अहम हिस्सा बन जाएगा तो मुझे उम्मीद है कि महिलाओं के लिए भी ऐसा टूर्नामेंट आयोजित किया जाएगा।

उन्होंने कहा महिला क्रिकेट भी लगातार विकास कर रहा है। वह पहले आईसीसी से जुड़ा। बीसीसीआई ने उसे अपनाया। अब हमें अच्छी सुविधाएँ मिल रही हैं तो हम अपने लिए आईपीएल की आस भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :