तिलकरत्ने मैच फिक्सिंग के सबूत भी दें-एसएलसी

कोलंबो| वार्ता| पुनः संशोधित मंगलवार, 3 मई 2011 (18:09 IST)
हमें फॉलो करें
क्रिकेट श्रीलंका (एसएलसी) ने पूर्व कप्तान हसन तिलकरत्ने को चेतावनी दी है कि वह मैच फिक्सिंग के बयानों को पुख्ता सबूतों के साथ साबित करें।


एसएलसी का यह बयान ऐसे समय आया है जब श्रीलंकाई खेल मंत्री महिंदानंदा अलुथगमागे ने तिलकरत्ने के मैच फिक्सिंग के दावों की जाँच के लिए पुलिस महानिदेशक को जांच के आदेश जारी कर दिए हैं। गौरतलब है कि तिलकरत्ने ने क्रिकेट जगत में यह कहकर सनसनी मचा दी थी कि देश में वर्ष 1992 से ही मैच फिक्सिंग जारी है।

श्रीलंकाई टीम के सीनियर खिलाड़ियों कुमार संगकारा और महेला जयवर्धने ने भी तिलकरत्ने के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि उन्हें अपने दावों को साबित करने के लिए पुख्ता सबूत पेश करने चाहिए।

विश्वकप के बाद टीम की कप्तानी से इस्तीफा दे चुके संगकारा ने कहा तिलकरत्ने को घरेलू प्रशासन और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की अपराध निरोधी सुरक्षा इकाई के साथ मिलकर इस मामले पर काम करना चाहिए। एसएलसी ने तिलकरत्ने के मैच फिक्सिंग के दावों के समर्थन में उतरे पूर्व कप्तान अर्जुन रणतुंगा के लिए कहा कि दोनों ही पूर्व कप्तानों को अपने दावों को साबित करने के लिए पुख्ता सबूत पेश करने की जरूरत है।

बोर्ड ने कहा हम इस बात से हैरान हैं कि इतने वर्षों के बाद आखिरकार ऐसे बयान क्यों दिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा एसएलसी की अपनी एक प्रक्रिया है जहाँ कोई खिलाड़ी मैच फिक्सिंग के संदेह की स्थिति में अपने राष्ट्रीय बोर्ड और आईसीसी की भ्रष्टाचार निरोधी शाखा को सूचित कर सकता है जिससे तुरंत मामले की जांच शुरू की जा सके। बोर्ड ने तल्ख लहजे में कहा कि यह देश और एसएलसी के हित में होगा कि ऐसे आरोप उचित प्रमाणों और जिम्मेदारी के साथ साबित किए जाएं। (वार्ता)



और भी पढ़ें :