मंगलवार, 7 फ़रवरी 2023
  1. खेल-संसार
  2. »
  3. क्रिकेट
  4. »
  5. समाचार
Written By भाषा
पुनः संशोधित शनिवार, 1 अगस्त 2009 (17:13 IST)

चयनकर्ताओं से नाराज हैं कांबली

पूर्व क्रिकेटर विनोद कांबली राष्ट्रीय चयनकर्ताओं से इस बात पर नाराज हैं कि उन्हें यह बताने की जहमत नहीं उठाई गई कि उन्हें क्यों भारतीय टीम से बाहर किया गया। उन्होंने कहा कि चयनकर्ताओं की यह प्रवृत्ती आज भी जारी है।

भारतीय क्रिकेट में तूफानी शुरुआत करने वाले मुंबई के बाएँ हाथ के इस बल्लेबाज ने कहा कि बार-बार टीम से बाहर करने से उनका मनोबल टूटा और इससे भी निराशाजनक बात यह रही कि उन्हें कभी नहीं बताया गया कि आखिर उन्हें क्यों टीम से बाहर किया गया।

कांबली ने कहा कि पदार्पण के बाद मैंने ठीक-ठाक प्रदर्शन किया लेकिन मुझे आस्ट्रेलिया दौरे से पहले टीम से बाहर कर दिया गया। विश्व कप के लिए मेरी टीम में वापसी हुई लेकिन फिर मुझे टीम से हटा दिया गया। मुझे टीम में अपनी जगह पक्की नहीं लगी और इससे मेरे मनोबल पर असर पड़ा।

क्रिकेटर से अभिनेता बने कांबली ने कहा कि किसी भी चयनकर्ता ने मुझे नहीं बताया कि क्या गलत है। अगर कुछ गलत था तो वह यह था कि शार्ट पिच गेंदों पर मुझे परेशानी होती थी। मैं इस पर काम करके अपने खेल में सुधार कर सकता था लेकिन मुझे कभी नहीं बताया गया कि मुझे क्यों टीम से बाहर किया जा रहा है और आज भी ऐसा ही होता है।

सचिन तेंडुलकर के करीबी मित्र कांबली हाल में उस समय सुखिर्यों में आए जब उन्होंने यह दावा किया कि उन्हें भारत और मुंबई के अपने इस दिग्गज साथी बल्लेबाज का पर्याप्त सहयोग नहीं मिला लेकिन बाद में वे अपने बयान से पलट गए।

इस पूर्व क्रिकेटर ने एक बार फिर इससे इनकार करते हुए कहा कि हमारे बीच कोई परेशानी नहीं है। कुछ लोगों ने हमारे बीच खाई बनाने की कोशिश की, लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिलेगी।