मीडिया में विशेषज्ञता से निखारें कैरियर

विशेषज्ञता दिलाएगी हुनर और अवसर

ND
तकनीक के विकास के कारण मीडिया का स्वरूप भी पूरी तरह बदल चुका है। मास मीडिया अब न्यू मीडिया के तौर पर जाना जाने लगा है और मीडिया का भविष्य अब वेब पत्रकारिता ही है। प्रिंट मीडिया में जहां यह टेक्स्ट के रूप में है वहीं टीवी में विजुअल और रेडिया में ऑडियो के रूप में जाना जाता है।

तकनीक के इसी बदलते स्वरूप के चलते अब हर क्षेत्र में विशेषज्ञों की मांग बढ़ गई है। इसी तर्ज पर प्रोफेशनल कोर्सों ने पिछले कुछ सालों में अपने नए आयाम तय कर लिए हैं। अब जमाना अपने क्षेत्र में विशेषज्ञता हासिल करने का है। यही कारण है कि स्नातक के साथ-साथ आमतौर पर बच्चे कोई प्रोफेशनल कोर्स भी करना चाहते हैं जिससे आगे नौकरी पाने की उनकी राहें आसान हो जाएं।

इसी तर्ज पर 'वेब पत्रकारिता' और 'स्पोर्ट्स, इकोनॉमिक्स एंड मार्केटिंग' नामक दो नए डिप्लोमा कोर्स शुरू किए गए हैं, जो अभी डीयू के एक ही कॉलेज में हैं। यदि आप मीडिया के किसी भी क्षेत्र में विशेषज्ञता हासिल करना चाहते हैं या फिर आपकी स्पोर्ट्स, मार्केटिंग आदि में रुचि है तो यह कोर्स आपके लिए बेहद फायदेमंद साबित हो सकते हैं।

योग्यता
12वीं के बाद सीधे आप इस डिप्लोमा कोर्स को कर सकते हैं। कोर्स की खासियत है कि आप किसी भी स्ट्रीम से 12वीं कर इस कोर्स में दाखिला ले सकते हैं। कोर्स की फीस लगभग 12,500 रु है।

पाठ्यक्रम की विधि
अमूमन कक्षा में यह कोर्स तीन महीने का है और इतने ही समय का फील्ड वर्क इसमें शामिल रहता है। कोर्स की खासियत है कि इसकी हर क्लास ऑडियो विज्युल क्लास है। वहीं छात्र खुद ही सभी लेक्चर आदि को ब्लॉग में भी अपडेट करते हैं। तीन महीने की थ्योरी के बाद फील्ड अध्ययन के लिए बच्चों को भेजा जाता है जहां वह चीजों को व्यावहारिक तौर पर सीखते हैं।

विशेषज्ञों की राय
कोर्स की प्रभारी डॉ स्मिता मिश्रा का कहना है कि एक ओर जहां यह कोर्स आपके शैक्षिक योग्याता में लाभदायक है वहीं आगे चलकर इस कोर्स को करने से नौकरी की संभावनाएं बहुत बढ़ जाती हैं। कॉलेज भी बच्चों की प्लेसमेंट में पूरी मदद करता वहीं इससे बच्चों के लिए कई क्षेत्र के दरवाजें खुल जाते हैं जहां आमतौर पर प्रवेश करना मुश्किल रहता है।

वहीं कॉलेज में गेस्ट फेकल्टी के रूप में डी.डी स्पोर्ट्स के एंकर अर्जुन चौधरी का कहना है कि यह कोर्स निश्चित तौर पर बच्चों के लिए फायदेमंद रहता है। आज हर क्षेत्र में विशेषज्ञों की मांग है ऐसे में यह कोर्स आपको अपनी फील्ड में विशेषज्ञ बनाने का प्रयास करता है।

कोर्स की विधाएं
- स्पोर्ट्स ब्रॉडकास्टिंग
- इवेंट मैनजमेंट
- एडवर्टाइजिंग
- गुड्स एंड सर्विसज

इस कोर्स को करने के बाद आप अपने क्षेत्र में तो विशेषज्ञता हासिल कर ही लेते हैं इससे इतर आप अपने ही क्षेत्र से जुड़ी अलग-अलग विधाओं भी काम कर सकते हैं। मसलन स्पोर्ट्स, इकोनॉमिक्स एंड मार्केटिंग के कोर्स के बाद आप चाहें तो स्पोर्ट्स प्रोडक्शन, इवेंट मैनेजमेंट, क्रिएटिव राइटिंग, स्पोर्ट्स लॉ, स्पोर्ट्स एजेंट, गुड्स एंड मैनेफेक्चिरिंग आदि में अपने हाथ आजमा सकते हैं। पत्रकारिता से लेकर उपरोक्त विषयों से जुड़ी किसी भी विधा में यह कोर्स आपके लिए उपयोगी है। वहीं आपकी विदेश जाने की भी संभावनाएं इस कोर्स को कर बढ़ जाती हैं।

कहां से करें कोर्स
- गुरु तेग बहादुर खालसा कॉलेज, डीयू

और भी पढ़ें :