अब मुंह बंद रखना होगा

WD


इस घटना से उन सभी कंपनियों ने सबक सीखा है जिनके उत्पादों का प्रचार करते हैं। सबके कान खड़े हो गए हैं कि यही सितारें बाद में उनके उत्पादों की बुराई कर उनके लिए मुश्किलें खड़ी कर सकते हैं। उजले होने की क्रीम का प्रचार कर रहे किसी कलाकार का भविष्य में जमीर जाग सकता है कि वह तो रंगभेद को बढ़ावा दे रहा था। इसलिए कंप‍नियां कानूनी रूप से अब नकेल कसने जा रही हैं।

प्रियंका चोपड़ा, करीना कपूर, शाहरुख खान, सलमान खान, अमिताभ बच्चन, अजय देवगन, रणबीर कपूर, दीपिका पादुकोण सहित क्रिकेट के कई खिलाड़ियों के चेहरे लगातार टीवी कार्यक्रमों के ब्रेक में नजर आते हैं। शहर की होर्डिंग, वेबसाइट्स और अखबारों में भी ये पीछा नहीं छोड़ते और आम लोगों से कुछ खरीदने की गुजारिश करते नजर आते हैं। इनमें और कंपनी के बीच अनुबंध में ऐसी शर्त डाली जा रही है अनुबंध खत्म होने के बाद भी यह जीवन पर्यंत उस उत्पाद के बारे में कोई भी नकारात्मक बातें नहीं करेंगे। जिनसे अनुबंध हो चुका है उनसे नए सिरे से अनुबंध किया जा रहा है।

करोड़ों रुपये प्रचार के नाम पानी की तरह बहाने वाली कंपनियां सेलिब्रिटीज को अपनी ओर से ये आश्वासन भी दे रही हैं कि वे भी उन सेलिब्रिटीज के बारे में नकारात्मक बातें नहीं करेंगी। गौरतलब है कि इन कंपनियों के लिए काम करने वाले वकीलों के दिमाग में ये बात अब तक क्यों नहीं आई। जबकि वे अन्य कई बातें, जैसे हीरोइनें इतने समय तक गर्भवती नहीं होगी, शादी नहीं करेगी, विरोधी कंपनी का प्रचार नहीं करेगी, जैसी कई शर्तें डालते हैं, लेकिन इस ओर उनका ध्यान कभी नहीं गया।

अब अमिताभ के कारण इन सेलिब्रिटीज के मुंह को सीलने का काम ये कंपनियां करने वाली हैं। वाकई, पैसे में बहुत ताकत होती है।

विज्ञापन की दुनिया के लोकप्रिय चेहरे
प्रियंका चोपड़ा - डाबर, पेप्सी
शाहरुख खान - इमामी कंपनी, नोकिया मोबाइल, एक शराब कंपनी का विज्ञापन, शीतल पेय का विज्ञापन, हेअर ऑइल और अन्य
अमिताभ बच्चन - इमामी, हेअर ऑइल और अन्य
दूध से जला छांछ भी फूंक कर पीता है। समझदारी भी यही है। बेहतर है दुर्घटना के पहले ही सुरक्षा के प्रबंध कर लिए जाए। पेप्सी से अनुबंध खत्म होने के बाद के महानायक ने सार्वजनिक रूप से उनके उत्पाद की आलोचना कर दी। उनसे स्कूल जाने वाली एक समझदार लड़की ने पूछ लिया कि वे उस कोल्ड ड्रिंक का क्यों करते हैं जिसमें जहरीले तत्व होते हैं। बच्चन साहब ने अनुबंध खत्म होने के बाद यह मामला सभी को बता दिया। जाहिर-सी बात है कि पेप्सी कंपनियों के कर्मचारियों पर इसका बुरा असर हुआ। उन्होंने तो अपने उत्पाद का प्रचार करने के बदले में अमिताभ को भारी-भरकम राशि चुकाई थी और उम्मीद की थी कि अनुबंध खत्म होने के बाद वरिष्ठ बच्चन भले ही उत्पाद के संबंध में भली बातें न करें, लेकिन बुराई भी नहीं करेंगे।
रणबीर कपूर - पेप्सी, पेनासोनिक, लेज़ चिप्स और अन्य



और भी पढ़ें :