पेंटिंग 2012 : कलाकृतियों की रिकॉर्ड बिक्री

नई दिल्ली| भाषा|
FILE
दुनिया के बेहतरीन कलाकारों की अनमोल कलाकृतियां और कुछ अन्य दुर्लभ चीजें इस वर्ष रिकॉर्ड कीमत में बिकीं। दरअसल इनके चाहने वालों ने इन कलाकृतियों की कीमत नहीं लगाई, बल्कि इनके प्रति अपनी चाहत और इन्हें अपने पास रखने की हसरत की कीमत लगाते हुए इन्हें करोड़ों रुपए में खरीदा।

सैफ्रनआर्ट द्वारा जून में आयोजित नीलामी में एसएच राजा की 1985 में बनायी गई पेंटिंग और वी एस गैतोंडे की कलाकृतियों को लेकर सबसे ज्यादा आकर्षण रहा और सबसे अधिक मूल्य में बिकी।

राजा की पेंटिंग ‘एनकाउंटर’ 3.15 करोड़ रुपए में बिकी जबकि नीलामी की न्यूनतम तय राशि दो से ढाई लाख रुपए के आस पास थी। इसी तरह राजा की एक अन्य कलाकृति ‘जर्मीनेशन’ 1.82 करोड़ रुपए में, गैतोंडे की एक पेटिंग 2.85 करोड़, सुबोध गुप्ता की एक पेंटिंग 1.17 करोड़ रुपए और एमएफ हुसैन की एक कलाकृति 1.02 करोड़ रुपए में बिकी।
प्रगतिशील भारतीय कलाकार दिवंगत तैयब मेहता की पेन्टिंग मार्च में न्यूयॉर्क में नीलामी के दौरान 17.60 लाख डॉलर में बिकी। राजस्थान के उदयपुर के महाराणा और देवगढ़ के रावतों से संबंधित 18 शताब्दी के कलाकार बगता का एक अलिखित चित्र फरवरी में बोनहैम्स में हुई नीलामी में अनुमान से छह गुना अधिक यानि 302500 डॉलर में नीलाम हुआ।
यह चित्र वर्ष 1808 का है और इसका आकार 16 गुणा 22 इंच है। इस चित्र में रावत गोकल दास को अपनी पत्नियों के साथ होली खेलते दिखाया गया है। इस चित्र को एक कलेक्टर की ओर से भेजा गया था जिसने इसे दो दशक पहले मात्र 125 डॉलर में खरीदा था।
भारत के आधुनिक कलाकारों में से एक जहांगीर सबावाला की एक शानदार तस्वीर सात जून को आधुनिक और समकालीन दक्षिण एशिया कला की बोनहम्स वार्षिक नीलामी में रिकॉर्ड दो लाख 53 हजार 650 पाउंड में बिकी।

सबावाला की तस्वीर ‘वेस्पर्स वन’ की अनुमानित कीमत एक लाख से डेढ़ लाख पाउंड के बीच आंकी गई थी यह तस्वीर नए कीर्तिमान के साथ बिकी।

सबसे कीमती चीजों की सूचि में सचिन का बल्ला कितने का...




और भी पढ़ें :