पिछले ओलंपिक में सिर्फ भारत ही हॉकी में गोल्ड लाने वाली टीम को चटा पाया था धूल

पुनः संशोधित सोमवार, 19 जुलाई 2021 (22:56 IST)
नई दिल्ली:में भारतीय पुरुष हॉकी टीम की कप्तान करने वाले भारत के सबसे अनुभवी ने रियो ओलंपिक में भारत के निराशाजनक प्रदर्शन को लेकर कहा है कि भारत एकमात्र टीम थी, जिसने अर्जेंटीना के खिलाफ जीत हासिल की थी, जो 2016 में ओलंपिक चैंपियन बना था। उनका मानना है कि टीम ने ओलंपिक खेलों में अपनी पिछली गलतियों से सबक सीखा है।

35 वर्षीय श्रीजेश ने कहा, “ मुझे लगता है कि हम क्वार्टर फाइनल में स्पेन से खेलना पसंद करेंगे, लेकिन ओलंपिक में किसी भी टीम को हल्के में नहीं लिया जा सकता और हमने अपनी पिछली गलतियों से सीखा है। हम एकमात्र टीम थे जिसने रियो ओलंपिक खेलों 2016 में अर्जेंटीना को हराया था जो अंत में 2016 में ओलंपिक चैंपियन बनी थी। ”

टोक्यो ओलंपिक खेलों में पांच दिन बचे हैं। इस बीच अनुभवी भारतीय गोलकीपर श्रीजेश ने हॉकी इंडिया की फ्लैशबैक सीरीज के लेख में भारतीय हॉकी टीम के 2016 में रियो ओलंपिक में निराशाजनक प्रदर्शन के बारे में बात की है।
2006 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण करने के बाद ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए छह साल तक इंतजार करने वाले श्रीजेश ने कहा, “ दुर्भाग्यवश हम 2008 में बीजिंग के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाए थे और हॉकी उन दिनों सच में दर्शकों की संख्या (व्यूअरशिप) में कमी का सामना कर रही थी, लेकिन हॉकी इंडिया के कार्यभार संभालने के बाद चीजें बेहतर हुईं और हमारे प्रशिक्षण और प्रतियोगिता के लिए एक बहुत ही व्यवस्थित दृष्टिकोण पेश किया। 2008 से 2012 के बीच पहला बड़ा लक्ष्य लंदन ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करना था, हालांकि वहां हमारा प्रदर्शन निराशाजनक रहा, लेकिन जो खिलाड़ी कोर ग्रुप में बने रहे वे जानते थे कि हमें स्तर को ऊंचा करना होगा और एशिया में एक प्रमुख टीम बनने पर ध्यान केंद्रित करना होगा। हमने 2014 के एशियाई खेलों और रियो ओलंपिक के लिए सीधी योग्यता हासिल करने का लक्ष्य रखा था। ”

टोक्यो ओलंपिक में तीसरी बार भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले श्रीजेश का मानना ​​है कि विश्व स्तर पर मजबूत प्रदर्शन, विशेष रूप से 2015 में रायपुर में विश्व लीग फाइनल में कांस्य पदक जीत और 2016 में एफआईएच चैंपियंस ट्रॉफी में एक ऐतिहासिक प्रदर्शन के साथ रजत पदक जीत से टीम रियो ओलंपिक खेलों के लिए अच्छी स्थिति में आ गई। उन्होंने कहा, “ यह एक अच्छी टीम थी और हम जानते थे कि हम शीर्ष चार में जगह बनाने में काफी सक्षम हैं। तथ्य यह है कि 2016 के रियो ओलंपिक से क्वार्टर फाइनल की शुरुआत की गई थी, यह एक बड़ा फायदा था। हमें जर्मनी, नीदरलैंड, अर्जेंटीना, आयरलैंड और कनाडा के साथ पूल बी में रखा गया था। हम जानते थे कि क्वार्टर फाइनल में अपेक्षाकृत आसान प्रतिद्वंद्वी के लिए हमें अपने पूल में शीर्ष 3 में समाप्त करना होगा। ”(वार्ता)



और भी पढ़ें :