दिल भी यारब कई दिए होते

मेरी क़िस्मत में ग़म गर इतना था
दिल भी यारब कई दिए होते -



और भी पढ़ें :