'राम सिया के लव कुश' की अनोखी कहानी

ram siya ke luv kush serial on colors tv
पुनः संशोधित सोमवार, 5 अगस्त 2019 (17:44 IST)
पर नया धार्मिक 'राम सिया के लव कुश' 5 अगस्त से शुरू हो रहा है, जो सोमवार से शुक्रवार तक प्रतिदिन रात 8.30 बजे प्रसारित होगा। इससे पहले भी रामायण से जुड़ी कहानी पर कई ऐसे सीरियल बन चुके हैं, लेकिन लव और कुश पर सीरियल बनाना बहुत खास है।

कलर्स पर लव और कुश की कहानी पर 'राम सिया के लव कुश' सीरियल प्रसारित होना बहुत ही सराहनीय कदम है, क्योंकि लव और कुश के संबंध में लोग कम ही जानते हैं। रामायण और राम पर वैसे तो बहुत सीरियल बने हैं लेकिन लव और कुश पर कम ही बने हैं। लव और कुश पर फिल्में भी बनी हैं। लव और कुश भगवान राम के जुड़वां पुत्र थे। लव और कुश की कहानी की चर्चा कम ही होती है।


लव और कुश की कहानी रामचरित मानस या रामायण के उत्तरकांड में मिलती है। उत्तरकांड में लव और कुश द्वारा अपने माता-पिता राम और सीता को मिलाने की बहुत ही मार्मिक कथा है। कलर्स के 'राम सिया के लव कुश' की कथा का केंद्र भी यही होगा। जिन्होंने राम के अयोध्या में लौट आने के बाद और सीता के अग्निपरीक्षा के बाद की कहानी सुनी-पढ़ी नहीं हो निश्चित ही उन लोगों को यह सीरियल जरूर देखना चाहिए।

प्रोमो : निश्चित ही यह जानना भी जरूरी है कि राम के पुत्रों की कहानी क्या है? इस सीरियल का प्रोमो देखने पर लगता है कि यह भव्य सेट, अच्छे कास्ट्यूम और अद्भुत संगीत एवं आवाज के मिश्रण के साथ प्रस्तुत किया जा रहा है। प्रोमो देखकर उम्मीद बनती है कि यह सीरियल दर्शकों को जरूर आकर्षित करेगा।


सीरियल के किरदार : इस सीरियल में हिमांशु सोनी राम के किरदार और शिवाया पथानिया सीता के रोल में नजर आएंगी जबकि लव की भूमिका में हर्षित काबरा और कुश के रोल में जुबेर अली नजर आएंगे। इस सीरियल के प्रोड्यूसर सिद्धार्थ तिवारी हैं। यदि आप धार्मिक सीरियल देखने के शौकीन हैं, तो यह आपके लिए नया अनुभव होगा।

लव और कुश का वंश : राजा लव से राघव राजपूतों का जन्म हुआ जिनमें बर्गुजर, जयास और सिकरवारों का वंश चला। इसकी दूसरी शाखा थी सिसोदिया राजपूत वंश की जिनमें बैछला (बैसला) और गैहलोत (गुहिल) वंश के राजा हुए। कुश से कुशवाह (कछवाह) राजपूतों का वंश चला। ऐतिहासिक तथ्यों के अनुसार लव ने लवपुरी नगर की स्थापना की थी, जो वर्तमान में पाकिस्तान स्थित शहर लाहौर है। कुश ने कई शहरों को फिर से बसाया था जिसमें अयोध्या, कुशावती, कुशस्थली और कुंभा आदि हैं।

 

और भी पढ़ें :