0

शिक्षक दिवस पर रोचक कविता : साइकिल हाथ में, छाते के साथ में

गुरुवार,सितम्बर 5, 2019
0
1
अधिकांश फिल्मों में टीचर या प्रोफेसर भुलक्कड़ मिलेगा। उसे विद्यार्थी बेवकूफ बनाते रहते हैं और वह जोकरनुमा हरकत करता रहता है। फिल्मों में हास्य के दृश्य डालने के लिए अक्सर टीचर को याद किया जाता है। टीचर भी एक सामान्य व्यक्ति है, लेकिन उसके इस रूप का ...
1
2
आदरणीय शिक्षकों और मेरे सभी साथियों, आप सभी का मैं इस सभा में स्वागत करती हूं। आज हम सभी यहां शिक्षक दिवस के उपलक्ष्य में एकत्रित हुए हैं। मैं आभारी हूं कि आज के इस खास मौके पर मुझे अपने विचार आप सभी के सामने रखने का मौका मिला। इस अवसर के लिए मैं ...
2
3
एक बार कि बात है, एक गुरू अपने कुछ शिष्यों के साथ पैदल ही यात्रा पर थे। वे चलते-चलते किसी गांव में पहुंच गए। ये गांव काफी बड़ा था, वहां घूमते हुए उन्हें काफी देर हो गयी थी। गुरू जी थक चुके थे और उन्हें बहुत प्यास लगी थी, तो उन्होनें अपने एक शिष्य से ...
3
4
क्यों न इस टीचर्स डे पर हर उस शख्स जिनसे हमने जीवन में कुछ न कुछ सिखा है, उन्हें हम ध्न्यवाद देते हुए शुभकामनाओं सहित प्यार भरे संदेश भजें। हम आपके लिए लेकर आए हैं टीचर्स डे के लिए शानदार कोट्स का कलेक्शन -
4
4
5
डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति और द्वितीय राष्ट्रपति रहे है। वे भारतीय संस्कृति के संवाहक, प्रख्यात शिक्षाविद, महान दार्शनिक और एक आस्थावान हिन्दू विचारक थे। उनके इन्हीं गुणों के कारण सन् 1954 में भारत सरकार ने उन्हें सर्वोच्च ...
5
6
पूरे देश में 5 सितंबर को टीचर्स डे (Teacher's Day) धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन स्‍कूल, कॉलेज, कोचिंग और अन्‍य शिक्षण संस्‍थानों में शिक्षकों के सम्‍मान में विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, जिनमें स्‍टूडेंट्स शिक्षकों को तोहफे देकर अपना ...
6
7
मेरे विद्यार्थियों, आप उस युग में जी रहे हैं, जिसमें स्रोतों की प्रचुरता है, आगे बढ़ने के बहुत से द्वार हैं पर याद रखना, छोटी सफलता के छोटे द्वारों के लिए आपका कद बहुत बड़ा है।
7
8
शिक्षक हमारे जीवन में बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। लेकिन ज्ञान के साथ-साथ कुछ और भी योग्यताएं हैं जो एक शिक्षक को अपने आप में बेहतरीन और स्टूडेंट्स का पसंदीदा बनाती हैं।
8
8
9
शिक्षक दिवस पर जरूर जानिए डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के 5 प्रेरणादायक विचार -
9
10
हमारे व्यक्तित्व निर्माण में शिक्षकों के महत्वपूर्ण योगदान को जीवनभर नहीं भूलाया जा सकता। शिक्षक दिवस के खास मौके पर अधिकांश लोग अपने गुरु के प्रति प्रेम और सम्मान प्रकट करने के लिए उन्हें कुछ भेंट करने का सोचते है। लेकिन समस्या यह होती है कि अपने ...
10
11
5 सितंबर को 'शिक्षक दिवस' मनाया जाता है ये तो सभी जानते है, लेकिन इस दिन से जुड़ी कुछ और खास बातें भी है जिन्हें आपको जरूर जानना चाहिए। आइए, जानें ऐसी ही 10 बातें -
11
12
भारत व अन्य देशों में समाज निर्माण के लिए शिक्षक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। शिक्षक एक सभ्य समाज के निर्माण में मजबूत स्तंभ होते हैं। हमारे यहां शिक्षक होना गर्व की बात होती है, इसलिए कई माता-पिता अपने बच्चों को बड़े होने पर शिक्षक बनने की सलाह ...
12
13
प्रतिवर्ष 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्म-दिवस के अवसर पर शिक्षकों के प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए भारतभर में शिक्षक दिवस 5 सितंबर को मनाया जाता है। 'गुरु' का हर किसी के जीवन में ...
13
14
किसी भी सभ्य समाज की पहचान इससे है कि उसमें बच्चे कितना खुश रहते हैं और उन्हें आगे बढ़ने की कितनी आजादी है। यदि बच्चे स्कूल में ही खौफ का शिकार होंगे तो उनका स्वाभाविक विकास रुक जाएगा।
14
15
आप मेरे सुयोग्य सुशील विद्यार्थी हैं, मेरे शिक्षिका होने की सबसे अहम वजह। यदि प्रथम व्याख्‍यान में आपने धैर्य, अनुशासन और गरिमा का परिचय नहीं दिया होता तो आज मैं कहां होती शिक्षिका? आज का दिन हमारा नहीं आपका है, आपके 'कर्तव्य बोध' पर ही हमारे ...
15
16
आज शिक्षा का अर्थ साक्षरता और सूचनात्मक जानकारियों से समृद्ध होना है और आज की शिक्षा का उद्देश्य किसी शासकीय, अशासकीय कार्यालय का वेतनभोगी अधिकारी-कर्मचारी बनना भर है।
16
17
शिक्षक ईश्वर का दिया हुआ वह उपहार है, जो बिना किसी स्वार्थ व भेद भाव के अपने हर शिष्य को अच्छी से अच्छी शिक्षा देने का प्रयास करता है। शिक्षक का दर्जा हमेशा से ही पूजनीय रहा है।
17
18
शिक्षक समाज में उच्च आदर्श स्थापित करने वाला व्यक्तित्व होता है। किसी भी देश या समाज के निर्माण में शिक्षा की अहम् भूमिका होती है, कहा जाए तो शिक्षक समाज का आइना होता है। हिन्दू धर्म में शिक्षक के लिए कहा गया है कि आचार्य देवो भवः यानी कि शिक्षक या ...
18
19
बिना गुरु के ज्ञान संभव नहीं और बिना ज्ञान के विजय संभव नहीं। जब से इस सृष्टि की संरचना हुई, तब से ही यह परिपाटी पीढ़ी-दर-पीढ़ी चली आ रही है
19