हाथ मिलाना क्यों उचित नहीं?

WD| पुनः संशोधित गुरुवार, 10 जुलाई 2014 (10:53 IST)
हमें फॉलो करें
FILE
भारतीय संस्कृति के अनुसार हाथ मिलाना उचित नहीं माना जाता। अभिवादन के लिए दूर से ही करने की परंपरा है। मिलते वक्त 'नमस्कार' और विदा होते वक्त 'नमस्ते' कहते हैं। हाथ मिलाने की बजाय हाथ जोड़कर 'नमस्कार' करना चाहिए।


हाथ मिलाने का प्रचलन अंग्रेज काल में शुरू हुआ। अंग्रेजों ने हमें बहुत तरह के पाश्चात्य संस्कार दिए और हमें हमारी संस्कृति से दूर कर दिया। हाथ जोड़कर अभिवादन करने के कई फायदे हैं जबकि हाथ मिलाने के बहुत सारे नुकसान हैं।

आज से 200 वर्ष पूर्व इतना संक्रमण नहीं फैलता था, लेकिन आजकल हाथ मिलाने से ही संक्रमण ज्यादा फैलने लगा है। हमारे हाथों से खुद का चेहरा भी नहीं छूना चाहिए, क्योंकि दिनभर में हाथों में कई तरह के बैक्टीरिया जमा हो जाते हैं। ऐसे में दूसरों से हाथ मिलाना कितना उचित है? हालांकि यह कोई बड़ा कारण नहीं है।

कारण कुछ और है, जानिए अगले पन्ने पर...




और भी पढ़ें :