क्यों किया था कृष्‍ण ने पलायन, जानें रहस्य...


अनिरुद्ध जोशी|
प्रस्तुति : अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'  मित्रों, आज हम आपको बताएंगे भगवान कृष्ण की वह कहानी, जो शायद ही आपने सुनी होगी। आप ये तो जानते होंगे कि श्रीकृष्ण को मथुरा छोड़ना पड़ी थी लेकिन कैसे, कब और यात्रा में उन्होंने किन-किन कठिनाइयों का सामना किया, यह नहीं जानते होंगे। इस दौरान वे कहां-कहां रुके और किस-किस से मिले, यह भी आप नहीं जानते होंगे। अब आप जानेंगे एक अद्भुत और रहस्यमय कहानी।>  
 
कंस वध के बाद मथुरा पर शक्तिशाली मगध के राजा जरासंध के आक्रमण बढ़ गए थे। मथुरा पर उस वक्त यादव राजा उग्रसेन का आधिपत्य था। श्रीकृष्ण ने सोचा, मेरे अकेले के कारण यादवों पर चारों ओर से घोर संकट पैदा हो गया है। मेरे कारण यादवों पर किसी प्रकार का संकट न हो, यह सोचकर भगवान कृष्ण ने बहुत कम उम्र में ही मथुरा को छोड़कर कहीं अन्य जगह सुरक्षित शरण लेने की सोची।
 
दक्षिण में यादवों के 4 राज्य थे। पहला राज्य आदिपुरुष महाराजा यदु की 4 नागकन्याओं से प्राप्त 4 पुत्रों ने स्थापित किया था। यह राज्य मुचकुन्द ने दक्षिण ऋक्षवान पर्वत के समीप बसाया था। दूसरा राज्य पद्मावत महाबलीश्वरम के पास था। यदु पुत्र पद्मवर्ण ने उसे सह्माद्रि के पठार पर वेण्या नामक नदी के तट पर बसाया था। पंचगंगा नदी के तट पर बसी करवीर नामक वेदकालीन विख्यात नगरी भी इसी राज्य के अंतर्गत आती थी। उस पर श्रंगाल नामक नागवंशीय माण्डलिक राजा का आधिपत्य था। करवीर नगरी को दक्षिण काशी कहा जाता था।
 
उसके दक्षिण में यदु पुत्र सारस का स्थापित किया हुआ तीसरा राज्य क्रौंचपुर था। यहां क्रौंच नामक पक्षियों की अधिकता थी इसीलिए इसे क्रौंचपुर कहा जाता था। वहां की भूमि लाल मिट्टी की और उर्वरा थी। इस राज्य को 'वनस्थली' राज्य भी कहा जाता था। चौथा राज्य यदु पुत्र हरित ने पश्‍चिमी सागर तट पर बसाया था। इन चारों राज्यों में अमात्य विपृथु ने पहले ही दूतों द्वारा संदेश भिजवाए थे कि श्रीकृष्ण पधार रहे हैं।
 
अगले पन्ने पर श्रीकृष्ण की कठिन यात्रा...
 
>



और भी पढ़ें :