गुरुवार, 2 फ़रवरी 2023
  1. खेल-संसार
  2. अन्य खेल
  3. रियो ओलंपिक 2016
  4. ban on Narsingh Yadav
Written By
पुनः संशोधित शुक्रवार, 19 अगस्त 2016 (07:14 IST)

टूटा नरसिंह का ओलंपिक पदक का सपना, चार साल का प्रतिबंध

रियो डि जेनेरियो। खेल मध्यस्थता अदालत (कैश) ने भारतीय पहलवान नरसिंह यादव पर डोपिंग मामले में आज चार वर्ष का प्रतिबंध लगा दिया जिससे नरसिंह का रियो ओलंपिक में खेलने का सपना चकनाचूर हो गया।
 
नरसिंह को डोपिंग मामले में इस माह के शुरू में राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) के क्लीन चिट देने के फैसले को विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी(वाडा) ने कैश में चुनौती दी थी और कई घंटे की सुनवाई के बाद कैश ने नरसिंह पर चार साल का प्रतिबंध लगा दिया। प्रतिबंध की शुरूआत आज से ही हो गई।
 
इससे पहले यहां भारतीय मीडिया में यह खबर फैलाई गई थी कि नरसिंह को क्लीन चिट मिल गई है और वह शुक्रवार को खेलने जा रहे हैं। यह गलत जानकारी दिल्ली से 'प्लांट' की गई थी कि वाडा ने नरसिंह को क्लीन चिट दे दी है और मुकाबले के लिए उनका वजन कराया गया है लेकिन अति उत्साह में इस बात को नजरअंदाज कर दिया गया कि वाडा इस मामले को कैश में ले जाने के बाद अपने हाथ हटा चुका था।
 
वाडा ने कैश में अपील करते हुए नाडा के फैसले पर सवाल उठाया था और चार साल का प्रतिबंध लगाने अपील की थी। कैश ने वाडा की अपील को कायम रखते हुए नरसिंह चार साल का प्रतिबंध ठोक दिया। भारत के लिए नरसिंह पर प्रतिबंध लगने की खबर एक गहरा झटका है जो महाराष्ट्र के इस पहलवान से रियो में पदक की उम्मीद कर रहा था।
 
कैश ने लंबी सुनवाई के बाद अपने फैसले में कहा कि नरसिंह के 25 जून 2016 के बाद से सभी प्रतियोगी परिणाम अयोग्य घोषित कर दिए जाएं और इस दौरान के उनके पदक, अंक और पुरस्कार जब्त कर लिएं जाएं।
 
नरसिंह को गत 23 जुलाई को प्रतिबंधित पदार्थ मैथन ड्योनेन का सेवन करने के लिये पॉजिटिव पाया गया था और उन्हें अस्थाई तौर पर निलंबित कर दिया गया था। नरसिंह ने तब उनके खिलाफ साजिश रचे जाने और उनके खाने पीने में कुछ मिलाए जाने का आरोप लगाया था। नाडा के अनुशासन पैनल ने 02 अगस्त को नरसिंह की साजिश की थ्योरी को स्वीकार कर लिया था और उन्हें सभी आरोपों से क्लीन चिट दे दी थी।
 
इसके बाद भारतीय कुश्ती महासंघ ने बताया था कि विश्व कुश्ती संस्था यूनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग ने नरसिंह को रियो ओलंपिक में उतरने के लिए अपनी मंजूरी दे दी है जिसके बाद नरसिंह को रियो भेज दिया गया था।
 
कैश पैनल के अनुसार 'इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि नरसिंह की कोई गलती नहीं थी और उसने डोपिंग रोधी नियमों का जानबूझकर उल्लंघन नहीं किया था इसलिए अब नरसिंह पर चार साल का प्रतिबंध लगाया जाता है।'
(वार्ता)
ये भी पढ़ें
सुभाषचंद्र बोस पर अरुण जेटली के ट्वीट पर बवाल...