कट मनी आरोप पर भड़के नारायणसामी, अमित शाह को दी मुकदमे की चेतावनी

पुनः संशोधित सोमवार, 1 मार्च 2021 (21:41 IST)
चेन्नई। पुडुचेरी के पूर्व मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी ने केंद्रीय गृह मंत्री के ‘कट मनी’ आरोप को लेकर सोमवार को उन पर मुकदमा करने की चेतावनी दी और आरोपों को निराधार बतातते हुए उनसे कहा कि या तो इसे साबित करें या सार्वजनिक रूप से माफी मांगें।
ALSO READ:
अमित शाह ने भी लगवाया कोविड-19 का टीका, Covaxin की खुराक लेने के बाद विदेश मंत्री ने दिया यह बयान
शाह ने उन पर केंद्रीय कोष से गांधी परिवार को ‘कट मनी’ देने के आरोप लगाए जिसके एक दिन बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा कि वे मंत्री के खिलाफ आपराधिक मानहानि का मुकदमा दर्ज कराएंगे। उन्होंने कहा कि मामले में वे किसी भी तरह की जांच का सामना करने के लिए तैयार हैं।
मंत्रियों और विधायकों के इस्तीफे के कारण बहुमत खोने के बाद नारायणसामी ने 22 फरवरी को अपनी कैबिनेट के साथ इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने आरोप लगाए कि भाजपा कांग्रेस सरकारों को ‘गिरा रही है’जैसा कि उसने अरुणाचल प्रदेश और मध्यप्रदेश में किया।
उन्होंने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि अमित शाह का यह बयान कि नरेंद्र मोदी सरकार ने पुडुचेरी को 15 हजार करोड़ रुपए दिए और उसे मैंने गांधी परिवार को दे दिया (कट मनी के तहत), पूरी तरह निराधार है और सच्चई से कोसों दूर है।

उन्होंने कहा कि मैं अमित शाह को चुनौती देता हूं। क्या आप अपने आरोपों को साबित कर सकते हैं? मैं किसी भी तरह की जांच के लिए तैयार हूं। आप गृहमंत्री हैं। आपके पास आईटी, ईडी, आईबी है। आपने कार्रवाई क्यों नहीं की...15 हजार करोड़ रुपए किसने और कब भेजे। प्रधानमंत्री ने इसे कब भेजा?
पुडुचेरी के कराईकल में एक रैली में शाह ने कहा कि कुछ वर्षों में केंद्र सरकार ने संघ शासित क्षेत्र को करीब 15 हजार करोड़ रुपए का कोष दिया और पूछा कि क्या धन गांव के लोगों तक पहुंचा, जिसके जवाब में श्रोताओं ने नहीं कहा। शाह ने आरोप लगाए तो नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा दिए गए 15 हजार करोड़ रुपये कहां गए। नारायणसामी ने इसमें कट मनी लिया और इसे दिल्ली में गांधी परिवार की सेवा में भेज दिया। नारायणसामी ने दावा किया कि शाह ने मामले में ‘झूठ’ बोला।
उन्होंने कहा कि मैं गृह मंत्री से कहता हूं-- मैं आपके खिलाफ आपराधिक मानहानि का मुकदमा दर्ज कराने जा रहा हूं। मैं नोटिस भेजने जा रहा हूं। अगर वे आरोपों को साबित कर देते हैं तो मैं कोई भी सजा भुगतने के लिए तैयार हूं नहीं तो उन्हें सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी होगी। (भाषा)



और भी पढ़ें :