प्रवासी कविता : रिश्ते पीड़ा भोगते हैं

relation
जब सहन करते हैं
जब मर्यादा उलांघते हैं
जब आकांक्षाएं ऊंची रखते हैं

जब उम्मीदों को ठुकराते हैं
जब चाल चल जाते हैं
जब ईमानदारी की चाल भूलते हैं

आंसू तो दे देते हैं
आंसू पोंछना भूल जाते हैं
शायद बाहर धूप में छोड़ दिए गए
और छांव में रख सहलाना भूल गए !

वेबदुनिया पर दिए किसी भी कंटेट के प्रकाशन के लिए लेखक/वेबदुनिया की अनुमति/स्वीकृति आवश्यक है, इसके बिना रचनाओं/लेखों का उपयोग वर्जित है...)



और भी पढ़ें :