मां कूष्मांडा आरती : नवरात्रि के चौथे दिन इस आरती से प्रसन्न होंगी देवी

Devi Kushmanda ki Aarti
 








मां कूष्मांडा की आराधना नवरात्रि में चौथे दिन की जाती है। यह देवी सृष्टि की आदिस्वरूपा या आदिशक्ति मानी जाती है। यहां पढ़ें उनकी पावन आरती-

मां कूष्मांडा की आरती : Kushmanda ki Aarti

चौथा जब नवरात्र हो, कूष्मांडा को ध्याते।
जिसने रचा ब्रह्मांड यह, पूजन है उनका
आद्य शक्ति कहते जिन्हें, अष्टभुजी है रूप।
इस शक्ति के तेज से कहीं छांव कहीं धूप॥

कुम्हड़े की बलि करती है तांत्रिक से स्वीकार।
पेठे से भी रीझती सात्विक करें विचार॥

क्रोधित जब हो जाए यह उल्टा करे व्यवहार।
उसको रखती दूर मां, पीड़ा देती अपार॥
सूर्य चंद्र की रोशनी यह जग में फैलाए।
शरणागत की मैं आया तू ही राह दिखाए॥

नवरात्रों की मां कृपा कर दो मां
नवरात्रों की मां कृपा करदो मां॥

जय मां कूष्मांडा मैया।



और भी पढ़ें :