मोदी सरकार की आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना, जानिए क्या है खास

Last Updated: गुरुवार, 12 नवंबर 2020 (15:28 IST)
नई दिल्ली। ने कोरोना काल में रोजगार गंवाने वालों को फिर से रोजगार दिलाने के उद्देश्य से आज आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना शुरू करने की घोषणा की।
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने गुरुवार को की घोषणा करते हुए कहा कि पिछले वर्ष मार्च में प्रधानमंत्री रोजगार प्रोत्साहन योजना शुरू की गई थी और अब यह नई योजना शुरू की गई है। इसका लाभ उनको मिलेगा जिनकी नौकरी कोरोना काल में चली गई है।
इस योजना का लाभ कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) में पंजीकृत लोगों को मिलेगा। यह योजना 30 जून 2021 तक चलेगी।

उन्होंने कहा कि इसके तहत ऐसे लोगों को लाभ होगा जिनका वेतन 15 हजार रुपए मासिक से कम है और वह ईपीएफओ में पंजीकृत है। इसके तहत एक हजार से कम कर्मचारी वाले संगठनों में कर्मचारी और नियोक्ता दोनों की ईपीएफओ की 24 फीसदी हिस्सेदारी सरकार देगी जो दो वर्ष के लिए होगी।

एक हजार से अधिक कर्मचारी वाले संगठनों में काम करने वालों के ईपीएफओ में सरकार कर्मचारी के अंश के 12 फीसदी का योगदान करेगी।
इस योजना का लाभ लेने के लिए अधिकतम 50 कर्मचारियों वाले प्रतिष्ठानों को कम से कम दो नई कर्मचारियों को भर्ती करना होगा, जबकि जिन प्रतिष्ठानों में 50 से अधिक कर्मचारी हैं, उन्हें कम से कम पांच नई भर्ती करनी होगी।



और भी पढ़ें :