देशद्रोह के मामले में जेएनयू छात्रसंघ का अध्यक्ष कन्हैया गिरफ्तार


Last Updated: शुक्रवार, 12 फ़रवरी 2016 (15:48 IST)
नई दिल्ली। जवाहरलाल नेहरू युनिवर्सिटी (जेएनयू) के कन्हैया कुमार को आज देशद्रोह के आरोप में दिल्ली पुलिस ने कर लिया। पुलिस उसके अन्य छात्र साथियों की गिरफ्तारी के लिए कई स्थानों पर छापे मार रही है।  कौन है छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार
कन्हैया कुमार : चित्र सौजन्य : फेसबुक
9 फरवरी के दिन यह सारा मामला जेएनयू में आतंकी अफजल गुरू के मृत्यु दिवस को शहादत दिवस के रूप में मनाने के बाद से ही शुरू हुआ। जेएनयू में कन्हैयालाल कुमार और उसके साथियों ने का समर्थन करते हुए पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए थे। यहां पर एक जलसा हुआ था, जिसमें आतंकी अफजल गुरु की फांसी को गलत ठहराते हुए भारत विरोधी नारे लगाए गए थे। इस जलसे में जेएनयू का अध्यक्ष और उसके कई साथी शामिल हुए थे। 
 
जेएनयू में अफजल गुरु का शहादत दिवस मनाने और इस दौरान देश विरोधी नारे लगाने के मामले में वसंत कुंज (नॉर्थ) थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई। इस मामले में दिल्ली से बीजेपी सांसद महेश गिरि ने देशद्रोह का केस दर्ज कराया है। 
 
यही नहीं, सांसद महेश गिरि ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह और मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी को पत्र लिखकर अनुरोध किया कि वो जेएनयू के कुलपति को कार्यक्रम के आयोजकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दें। जब इस जलसे का वीडियो वायरल हुआ, तब सरकार और दिल्ली पुलिस की नींद टूटी। 
 
शुक्रवार को आखिरकार जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया को देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया। इससे पहले इस मामले पर कड़ा रुख अपनाते हुए गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि देश में रहकर राष्ट्रविरोधी नारे लगाने वालों को किसी भी सूरत में माफ नहीं किया जाएगा।
 
एवीपीपी का प्रदर्शन : शुक्रवार की दोपहर में इस मामले को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सैकड़ों छात्रों ने रायसिना हिल पर जंगी प्रदर्शन करते हुए उन लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाही करने की मांग की, जो राष्ट्रविरोधी कार्यों में संलिप्त हैं। (वेबदुनिया न्यूज) 



और भी पढ़ें :