माँ तो बस माँ होती है

ND

माँ तो बस माँ होती है
बच्चों को भरपेट खिलाती
खुद भूखी ही सोती है
माँ तो बस माँ ही होती है।।

बच्चों की चंचल अठखेली
देख-देख खुश होती है
बचपन के हर सुंदर पल को
बना याद संजोती है
माँ तो बस माँ ही होती है।।

देख तरक्की बच्चों की वो
आस के मोती पोती है
बच्चों की खुशहाली में वो
अपना जीवन खोती है
माँ तो बस माँ होती है।।

बच्चों की बदली नजरों से
नहीं शिकायत होती है
जब जब झुकता सिर होठों पर
कोई दुआ ही होती है
भारती पंडित|
माँ तो बस माँ ही होती है।



और भी पढ़ें :