0

सद्भावना दिवस क्या है, जानिए क्यों मनाया जाता है?

शुक्रवार,अगस्त 19, 2022
0
1
java plum काले-काले, मीठे, रसीले जामुन सेहत और सौंदर्य दोनों के लिए फायदेमंद है। यह स्वाद से भरे जामुन हमारे मन पर राज करते हैं और इसका स्वाद सभी को पसंद आता है। आपने जामुन खाने के कई फायदे तो सुनें होंगे, यहां आप उनके फायदे के साथ-साथ नुकसान भी जान ...
1
2
स्वतंत्रता को अक्षुण्ण बनाए रखने की दृष्टि से हमारी चुनौतियां क्या है उन दिशाओं में देश कहां-कहां क्या कर रहा है तथा आम भारतीय का दायित्व क्या हैं आदि पर भी प्रभावी शैली से प्रकाश डालें। निष्कर्ष यही होगा कि अपने करीब 83 मिनट के भाषण में ...
2
3
रक्षिता ने फिर कहा “मेरे बैग में से किसी को कभी सैनेटरी पैड दिख भी जाता है तो मुझे संकोच नहीं होता”। उम्र में आने वाले बच्चों के सामने, उम्र पार कर जाने वाले लोग समझ नहीं पा रहे थे कि इन बातों में उनके साथ किस तरह शामिल हों या उनकी बातों में खुद को ...
3
4
Janmashtami prasad 2022 : हलवा भगवान श्री कृष्ण के प्रिय नैवेद्यों में से एक है। जो उन्हें बहुत पसंद आता है। अगर आप भी इस जन्माष्टमी पर पूरे परफेक्शन के साथ गेहूं के आटे का हलवा बनाकर उसका भोग भगवान कान्हा को अर्पित करेंगे तो निश्चित ही वे प्रसन्न ...
4
4
5
Makhan Mishri Bhog जन्माष्टमी के दिन भगवान श्री कृष्‍ण को भोग लगाने के लिए माखन और मिश्री का उपयोग किया जाता हैं। आपको बता दें कि माखन तथा मिश्री में पोषक तत्व एवं औषधीय गुण होते हैं। अत: इसका एकसाथ सेवन करने सेहत को कई लाभ प्राप्त होते हैं। जानिए ...
5
6
वो सपने सुनहरे भविष्य के हमने, किस आस पर किस सहारे पे देखे। वो शक्ति वो प्रेरणा आपकी थी, एक हारे हुए मन का बल आपसे था। ओ कान्हा! जब-जब मानव मन हारा, तब-तब तुमने भरा जोश व दिया सहारा।
6
7
Janmashtami 2022: जन्माष्टमी के विशेष मौके पर भगवान श्री कृष्ण के भक्त उपवास रखते हैं तथा तरह-तरह के 56 भोग तैयार करके उन्हें प्रसादस्वरूप अर्पित करते हैं और हर संभव उनसे आशीर्वाद लेने की कोशिश करते हैं। तो आइए इस जन्माष्टमी के विशेष मौके पर आप भी ...
7
8
Top 10 Prasad On Shri Krishna Janmashtami 2022 : जन्माष्टमी के दिन कान्हा के लिए कई तरह के प्रसाद बनाकर उनका भगवान श्री कृष्ण को नैवेद्य या भोग चढ़ाना जाता है। यहां जानिए इस जन्माष्टमी के पर्व पर कौन-कौनसे विशेष व्यंजन बनाना चाहिए। पढ़ें 10 सरल ...
8
8
9
Essay On Janmashtami प्रतिवर्ष भाद्रपद मास में कृष्‍ण पक्ष की अष्टमी तिथि को भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव मनाया जाता है। कृष्‍ण का जन्म रोहिणी नक्षत्र में हुआ था। इस दिन कान्हा का पूजन करके हर मनोकामना पूर्ण की जा सकती है। भगवान श्रीकृष्ण संतान, ...
9
10
ध्यान को अंग्रेजी में मेडिटेशन कहते हैं। यदि ध्यान आपकी दिनचर्या का हिस्सा बन गया है तो यह आपके दिन का सबसे बढ़िया समय बन जाता है। आपको इससे आनंद की प्राप्ति होती है। फिर आप इसे 5 से 10 मिनट तक बढ़ा सकते हैं। पांच से दस मिनट का ध्यान आपके मस्तिष्क ...
10
11
potato peel benefit अधिकतर सब्जी बनाते समय हम आलू का इस्तेमाल तो करते हैं, लेकिन इसके आलू के छिलके (potato peels) फेंक देते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आलू को छिलके सहित इस्तेमाल करने के क्या सेहत लाभ मिलते हैं। जरूर जानें... आलू के छिलकों ...
11
12
सत्ताएं जब जनता को उसके सपनों की समृद्धि हासिल करवाने में नाकामयाब हो जाती हैं तो वे बजाय अपनी विफलताओं को विनम्रतापूर्वक स्वीकार कर पश्चाताप करने के किसी वर्ग के विशेष ख़िलाफ़ शस्त्र उठाने का उद्घोष करने वाली धर्म संसदों की आढ़ में छुपने लगती हैं ...
12
13
बात यहां से शुरू करते हैं : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा और गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा का त्रिकोण लोग समझ ही नहीं पा रहे हैं। इनमें से कब किसे निपटा दे और किसका नजदीकी हो जाए, यह समझ में नहीं आता। पिछले 6 महीने में ...
13
14
Kids Poem खूब पढ़ो जी, खूब लिखो जी, अच्छे नंबर लाओ जी। मम्मी-पापा बड़े जनों से, खूब दुआएं पाओ जी। रोज नियम से शाला जाओ। मित्रों के संग मौज मनाओ। दौड़-भाग में रहो न पीछे, खेलो कूदो स्वास्थ्य बनाओ। खुद भी ठिल-ठिल करके हंसना, सबको खूब हंसाओ जी।
14
15
शहद और लहसुन दोनों का साथ में सेवन करने से आप पा सकते हैं सेहत से जुड़े 5 फायदे। पहले जानिए कि कैसे करें लहसुन और शहद का साथ में सेवन -
15
16
ways to stay young: आजकल 40 के बार व्यक्ति बूढ़ा दिखाई देने लगता है। जल्द बूढ़ा दिखाई देने के कई कारणों में दो प्रमुख कारण है पहला तनाव और दूसरा अनियमित खानपान एवं जीवनशैली। यदि आप सदा युवा बने रहना चाहते हैं तो आजमाएं तीन तरीके। जैसे शुद्ध वायु, ...
16
17
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की शब्द और भाषा पर काफी अच्‍छी पकड़ थी। विरोधी दल भी उन्हें शांति से सुनता था। उनके शब्दों में कड़वाहट जरूर होती थी लेकिन फिर भी विपक्ष उनके आसपास खड़ा रहता था। अटल बिहारी वाजपेयी ने राजनीति, साहित्य और समाज में ...
17
18
प्यार, पैसा, पावर, प्रगति, प्रभाव, पराक्रम और प्रतिष्ठा हम में से किसे नहीं चाहिए... आइए जानते हैं बिना किसी बड़े उपाय के हम खुद से ऐसी कौन सी बात बोलें जो हमें ये सब चीजें दे सकती हैं...
18
19
किसी व्यक्ति या संस्था के लिए 75 साल बहुत बड़ी अवधि हो सकती है, लेकिन एक देश के लिए 75 साल की अवधि बहुत लंबी नहीं कही जा सकती। 15 अगस्त 1947 को हमने जिस सफर की शुरुआत की थी, उसमें हमने बहुत-सी ऊंचाइयां हासिल की है। बहुत-सी उपलब्धियां हैं, जिसके बारे ...
19