कैंसर के 10 लक्षण

पुनः संशोधित सोमवार, 16 सितम्बर 2019 (15:07 IST)
रिसर्च एवं चैरिटी संस्थान रिसर्च यूके के मुताबिक आधे से ज्यादा वयस्क ऐसे लक्षणों से गुजरते हैं जो कैंसर से संबंधित हो सकते हैं, लेकिन वे इन्हें नजरअंदाज कर देते हैं। ये लक्षण होने पर डॉक्टरी सलाह जरूरी है।
पाचन में दिक्कत : एंडरसन कैंसर सेंटर के डॉक्टर बारथोलोम्यू बेवर्स के मुताबिक अगर आपको खाना पचाने में दिक्कत हो रही है तो तुरंत डॉक्टर से मिलें।

कफ या गले में खिचखिच : अगर गले में खराश बनी रहती है और खांसने में खून भी आ जाता है, तो ध्यान दें। जरूरी नहीं कि यह कैंसर ही हो, लेकिन सावधानी बरतना जरूरी है। खासकर अगर कफ ज्यादा दिन तक बना रहे।

मूत्र में रक्त : डॉक्टर बेवर्स के मुताबिक, "अगर मूत्र में रक्त आता है तो ब्लाडर या किडनी का कैंसर हो सकता है। लेकिन यह इंफेक्शन भी हो सकता है।"
दर्द बरकरार : डॉक्टर बेवर्स बताते हैं, "हर तरह का दर्द कैंसर की निशानी नहीं, लेकिन अगर दर्द बना रहे, तो वह कैंसर भी हो सकता है।" जैसे कि सिर में दर्द बने रहने का मतलब यह नहीं कि आपको ब्रेन कैंसर ही है, लेकिन डॉक्टर से मिलना जरूरी है। पेट में दर्द अंडाशय का कैंसर हो सकता है।

तिल या कुछ और : तिल जैसा दिखने वाला हर निशान तिल नहीं होता। ऐसे किसी भी निशान के त्वचा पर उभरने पर डॉक्टर को जरूर दिखाएं। यह स्किन कैंसर की शुरुआत हो सकता है।
अगर घाव ना भरे : अगर कोई घाव तीन हफ्ते के बाद भी नहीं भरता है तो डॉक्टर को दिखाना बेहद जरूरी है।

महिलाओं में : अगर मासिक चक्र के बाहर भी रक्त स्राव नहीं रुकता है तो महिलाओं को ध्यान देने की जरूरत है। यह सरवाइकल कैंसर की शुरुआत हो सकता है।

वजन घटना : डॉक्टर बेवर्स के मुताबिक, "वयस्कों का वजन आसानी से नहीं घटता।" लेकिन अगर आप बिना किसी कोशिश के दुबले होते जा रहे हैं तो जरूर ध्यान देने की बात है। यह कैंसर का संकेत हो सकता है।
गांठों का होना : कभी भी कहीं भी अगर गांठ महसूस हो तो उसपर ध्यान दें। हालांकि हर गांठ खतरनाक नहीं होती। स्तन में गांठ होना स्तन कैंसर की तरफ इशारा करता है, इसे डॉक्टर को जरूर दिखाएं।

निगलने में तकलीफ : गले में कैंसर का एक बहुत अहम संकेत यह भी है। गले में तकलीफ होने पर लोग आमतौर पर नर्म खाना खाने की कोशिश करते हैं, लेकिन डॉक्टर के पास नहीं जाते, जो कि सही नहीं है।

 

और भी पढ़ें :