अफगान युद्ध की किसने कितनी कीमत चुकाई

पुनः संशोधित बुधवार, 4 सितम्बर 2019 (11:18 IST)
अमेरिका पर सबसे बड़े आतंकी हमले के साथ ही वॉशिंगटन ने तय किया था कि अफगानिस्तान में घुसकर अल कायदा और को साफ कर दिया जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं हो सका। क्या है युद्ध का लेखा जोखा।
आम अफगान नागरिक
2009 से अगस्त 2019 तक 32,000 आम नागरिक मारे गए। 60,000 से ज्यादा घायल हुए। विस्थापितों की तादाद लाखों में है।

अमेरिकी और गठबंधन सेना की क्षति
अफगान युद्ध में अमेरिका और अंतरराष्ट्रीय सहयोग सेना (आईसैफ) के 3,459 सैनिक मारे गए।

अफगान आर्मी लहूलुहान
2014 से अगस्त 2019 तक अफगान सेना के 45,000 जवान इस युद्ध में मारे जा चुके हैं।
अमेरिका का खर्च
अक्टूबर 2001 से मार्च 2019 तक अफगान युद्ध में अमेरिका ने 760 अरब डॉलर खर्च किए।

तालिबान को कितना नुकसान
18 साल से जारी युद्ध में तालिबान के 31,000 से ज्यादा लड़ाके मारे गए।

बड़े निशाने
अफगान युद्ध में अमेरिका को अल कायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन को मारने में सफलता मिली। बिन लादेन के अलावा तालिबान के कई बड़े कमांडर भी मारे गए।
तालिबान अब भी मजबूत
अफगान सरकार और संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक अमेरिका की अगुवाई वाली गठबंधन सेनाओं के हमले में तालिबान से ज्यादा आम नागरिक मारे गए। ऐसे हमलों ने अमेरिका के प्रति नफरत और तालिबान के प्रति सहानुभूति पैदा करने का काम किया।

इस्लामिक स्टेट का एंगल
अफगानिस्तान में अब इस्लामिक स्टेट भी सक्रिय है। देश के पूर्व में पाकिस्तान से सटी सीमा पर कुनार के जंगलों में इस्लामिक स्टेट की पकड़ मजबूत हो चुकी है। आईएस 2015 से वहां है। कहा जा रहा है कि तालिबान अगर कमजोर हुआ तो इस्लामिक स्टेट ताकतवर होगा।
अशांत भविष्य
युद्ध और गृह युद्ध में फंसे अफगानिस्तान का भविष्य डगमग ही दिखता है। देश में विदेशी ताकतों की छत्रछाया में सक्रिय रहने वाले कई धड़े हैं। इन धड़ों के बीच शांति की उम्मीदें कम ही हैं। भू-राजनीतिक स्थिति के चलते ये देश पाकिस्तान, भारत, चीन, रूस, अमेरिका और ईरान के लिए अहम बना रहता है।
रिपोर्ट ओंकार सिंह जनौटी


और भी पढ़ें :