सोमवार, 22 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. व्यापार
  3. समाचार
  4. reliance retail acquires 52 percent equity- stake in ritu kumar brand ritika
Written By
Last Updated : मंगलवार, 19 अक्टूबर 2021 (22:41 IST)

रिलायंस रिटेल ने फैशन डिजाइनर रितु कुमार की कंपनी रितिका में खरीदी 52% हिस्सेदारी

रिलायंस रिटेल ने फैशन डिजाइनर रितु कुमार की कंपनी रितिका में खरीदी 52% हिस्सेदारी - reliance retail acquires 52 percent equity- stake in ritu kumar brand ritika
नई दिल्ली। अरबपति मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (आरआरवीएल) ने प्रतिष्ठित भारतीय फैशन डिजाइनर रितु कुमार की कंपनी रितिका प्राइवेट लिमिटेड का अधिग्रहण कर लिया है। रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (आरआरवीएल), रिलायंस इंडस्ट्रीज की पूर्ण स्वामित्व वाली कंपनी है।
आरआरवीएल ने कंपनी में 52% हिस्सेदारी हासिल कर ली है, इसमें एवरस्टोन की 35% हिस्सेदारी भी शामिल है। एक सप्ताह के भीतर यह रिलायंस इंडस्ट्रीज का किसी डिजाइनर ब्रांड में दूसरा निवेश है। इससे पहले शुक्रवार को रिलायंस ब्रांड्स ने मनीष मल्होत्रा के ब्रांड में 40 प्रतिशत हिस्सेदारी के लिए निवेश किया था। 
कंपनी के बयान के मुताबिक रितु कुमार के पोर्टफोलियो रितु कुमार, लेबल रितु कुमार, आरआई रितु कुमार, आरके, और रितु कुमार होम एंड लिविंग जैसे ब्रांड शामिल हैं। जिनके दुनिया भर में 151 रिटेल आउटलेट्स हैं। हालांकि रितु कुमार का डिजाइन स्टाइल उनके प्रत्येक ब्रांड में झलकता है पर उनका हर ब्रांड अपनी अलग पहचान के लिए जाना जाता है। भारतीयता से सराबोर रितु कुमार ने ब्रांड ने अपने ‘क्लासिकल स्टाइल’ से ग्राहकों का ध्यान खींचा है। 
रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड की निदेशक ईशा अंबानी ने कहा कि हम रितु कुमार के साथ साझेदारी करके खुश हैं। उनके पास मजबूत ब्रांड, बेहतरीन विकास क्षमता तथा फैशन एंव रिटेल क्षेत्र में कई इनोवेशन है, ये सभी तत्व एक संपूर्ण जीवनशैली ब्रांड बनाने के लिए पर्याप्त हैं।
 
हम साथ मिलकर भारत और दुनिया भर में अपने मूल वस्त्र और शिल्प के लिए एक मजबूत प्लेटफॉर्म और ग्राहक इकोसिस्टम बनाना चाहते हैं ताकि अंतरराष्ट्रीय वस्त्र बाजार में हमारे शिल्प को वह सम्मान और पहचान मिले सके जिसके वे हकदार हैं। 
 
कंपनी के मुताबिक इस साझेदारी का उद्देश्य इनोवेशन के माध्यम से अंतराष्ट्रीय वस्त्र उद्योग में भारत की उभरती भूमिका को रेखांकित करना है। सदियों पुराने डिजाइनों, रूपांकनों और पैटर्नों की पुनर्व्याख्या करना इसका लक्ष्य है।
ये भी पढ़ें
उत्तराखंड की बारिश से पीलीभीत में हाहाकार, दर्जनों गांवों में बाढ़, ग्रामीणों ने पेड़ों पर चढ़कर बचाई जान