0

लाल किताब : ऐसे कार्य भूलकर भी ना करें

शनिवार,अप्रैल 10, 2021
0
1
जन्म से लेकर 48 वर्ष की उम्र तक सभी ग्रहों का उम्र के प्रत्येक वर्ष में अलग-अलग प्रभाव होता है। उनमें से 9 ऐसे विशेष वर्ष होते हैं, जो ग्रह से संबंधित वर्ष माने गए हैं जिन पर उस ग्रह का शुभ या अशुभ प्रभाव विशेष रूप से रहता है। लाल किताब अनुसार ...
1
2
राहु के कारण जीवन में अचानक आने वाली घटना और दुर्घटनाएं बढ़ जाती हैं। कई बार अचानक कोई रोग उत्पन्न होता है व्यक्ति अस्पताल में भर्ती हो जाता है। राहु के कारण जातक पागलपन का भी शिकार हो जाता है। लाल किताब के वस्तु के अनुसार यूं तो राहु की स्थिति कई ...
2
3
लाल किताब के अनुसार मकान का वास्तु कुछ अलग तरह का ही होता है और मकान, घर या भवन पर किस ग्रह की छाया या प्रभाव पड़ रहा है इस संबंध में भी विस्तार से बताया गया है। यहां प्रस्तुत है 15 खास बातें।
3
4
आपने अक्सर देखा होगा कि लाल किताब में कुछ उपायों को 43 दिन तक करने की सलाह दी जाती है। जैसे 43 दिन तक सिरहाने तांबे के लौटे में जल रखकर सोएं और उसे प्रतिदिन बाहर ढोलकर नया जल भर लें या नाक में 43 दिन के लिए चांदी का तार डाल कर रखें आदि। आओ जाते हैं ...
4
4
5
कुंडली में राहु का प्रत्येक खाने में अलग-अलग असर होता है। यहां लाल किताब अनुसार प्रत्येक खाने में स्थित राहु के सामान्य उपाय बताए जा रहे हैं। हालांकि ये उपाय करने के पहले आप किसी लाल किताब के विशेषज्ञ से अपनी कुंडली की जांच जरूर करा लें।
5
6
आप आस्तिक हो या नास्तिक इससे ग्रह नक्षत्रों को कोई फर्क नहीं पड़ता और इससे धरती और उसके ध्रुवों को भी कोई फर्क नहीं पड़ता। वे आप पर उसी तरह का प्रभाव डालते हैं जिस तरहा का आपका नेचर है। मतलब आप खजूर के पेड़ हैं तो तूफान में आपके उखड़ जाने के चांस ...
6
7
कुछ लोगों पर अचानक कोई संकट आ जाता है तो कुछ लोग सालों से संकटों का सामना कर रहे हैं। मान जाता है कि संकटों का कारण पितृदोष, कालसर्प दोष, शनि की साढ़े साती और ग्रह-नक्षत्रों के बुरे प्रभाव होते हैं। कुछ लोग मानते हैं कि सभी कुछ अच्छा है लेकिन यदि ...
7
8
आपने शनि ग्रह पीड़ा से मुक्ति के लिए कई उपाय पढ़ें या करें होंगे लेकिन हम आपको लाल किताब के अनुसार कुछ अद्भुत ही उपाय बता रहे हैं जिन्हें करके आप शनि पीड़ा से मुक्ति हो जाएंगे।
8
8
9
कई बार किसी को नजर लग जाती है तो उसकी नजर उतारते हैं। कुछ लोगों को ऐसा लगता है कि हम पर किसी ने कुछ कर दिया है तो उसके लिए सामान्य से उपाय प्रचलित मान्यताओं पर आधारित हैं। हालांकि ऐसा कुछ होता नहीं है कि कोई किसी के लिए कुछ कर देता हो। परंतु फिर भी ...
9
10
लाल किताब एक रहस्यमयी किताब है। इसमें जितने उपाय बताए गए हैं उसे ज्यादा सावधानियां बताई गई हैं। आपके लिए हम लाए हैं लाल किताब के ऐसे उपाय जिन्हें आप वर्ष में 2 बार जरूर करें। ऐसे करने से आप एक ओर तो हर तरह के संकट से बच जाएंगे साथ ही आप तरक्की भी ...
10
11
लाल किताब में चांदी के बहुत से उपाय बताए गए हैं। चांदी के इन उपायों से धन, समृद्धि, शांति और सेहत बढ़ती है। घटना-दुर्घटना, गृहकलह और ग्रह-नक्षत्र के दुष्प्रभाव से बच जाते हैं। लेकिन निम्न उपाय लाल किताब के किसी विशेषज्ञ से पूछकर ही करें। आओ जानते ...
11
12
शनि की साढ़ेसाती, ढैय्या या शनि के अन्य दोष से बचने के कई उपाय या अनुष्ठान बताए जाते हैं। उनमें से कुछ को करना तो कठिन भी होता है। परंतु हम यहां आपको 3 बहुत ही सरल से उपाय बताएंगे जिससे शनि के दोष समाप्त हो जाएंगे।
12
13
प्रत्येक ग्रह का एक प्रतिनिधि पेड़, पौधा या वृक्ष होता है। जैसे गुरु का पेड़ पीपल है, सूर्य के तेजफल का वृक्ष, चंद्र का पोस्त का पौधा या दूध वाले वृक्ष, मंगल नेक के लिए नीम और मंगल बद के लिए ढाक, बुध के लिए केला या चौड़े पत्ते वाले वृक्ष, शुक्र के ...
13
14
लाल किताब के अनुसार प्रत्येक ग्रह का एक मकान होता है। अर्थात एक ऐसा मकान होता है जिससे यह सिद्ध होता है कि उस मकान पर उक्त ग्रह का पूर्ण असर है। आओ जानते हैं कि शनि का मकान कैसा होता है।
14
15
लाल किताब में चांदी के बहुत से उपाय बताए गए हैं। चांदी के इन उपायों से धन, समृद्धि, शांति और सेहत बढ़ती है। घटना-दुर्घटना, गृहकलह और ग्रह-नक्षत्र के दुष्प्रभाव से बच जाते हैं। लेकिन निम्न उपाय लाल किताब के किसी विशेषज्ञ से पूछकर ही करें। आओ जानते ...
15
16
यदि आपकी कुंडली में 4थे, 7वें और 10वें भाव में बृहस्पति अर्थात गुरु ग्रह बैठा है तो जान लें कि क्या क्या सावधानी रखना चाहिए अन्यथा आप पछताएंगे।
16
17
पराशर ऋषि के अनुसार आयु गणना की लगभग 82 विधियां है। ज्योतिष मनुष्य के जीवन के हर पहलू की जानकारी देता है। उसकी आयु का निर्धारण भी करता है। मगर जीवन-मरण ईश्वर की ही इच्छानुसार होता है अतः कोई भी भविष्यवक्ता इस बारे में घोषणा न करें ऐसा गुरुओं का ...
17
18
कहते हैं कि मंगल तो मंगलकर्ता है। मंगल अच्छा तो जीवन में सब मंगल ही मंगल होगा। मंगल का काम है मंगल करना। मंगल अशुभ होता है मांस खाने से। भाइयों से झगड़ने से और क्रोध करने से। मंगल का शासन आपके रक्त पर ‍अधिक होता है इसीलिए रक्त की खराबी भी मंगल के ...
18
19
लाल किताब के अनुसार पितृ दोष और पितृ ऋण से पीड़ित कुंडली शापित कुंडली कही जाती है। ऐसा व्यक्ति अपने मातृपक्ष अर्थात माता के अतिरिक्त मामा-मामी मौसा-मौसी, नाना-नानी तथा पितृपक्ष अर्थात दादा-दादी, चाचा-चाची, ताऊ-ताई आदि को कष्ट व दुख देता है और उनकी ...
19