दोरंगी कंबल के दान के 3 चमत्कारिक फायदे

kambal ka daan
अनिरुद्ध जोशी| पुनः संशोधित शनिवार, 22 फ़रवरी 2020 (16:56 IST)
में ग्रहों की स्थिति के अनुसार कंबल दान के बारे में उल्लेख मिलता है। किसी गरीब को या किसी मंदिर में कंबल दान करने के वैसे तो कई फायदे हैं, लेकिन सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह पुण्य का कार्य है। आओ जानते हैं लाल किताब क्या कहती है।
1. लाल किताब के अनुसार यदि आप किसी संकट में फंसे हैं तो संकट के लिए प्रथमत: जिम्मेदार राहु और केतु के लिए यह उपाय है। काला और सफेद अर्थात एक ही कंबल में यह दोनों रंग होना चाहिए। कोई तीसरा रंग नहीं होना चाहिए अर्थात दोरंगी कंबल को 21 बार खुद पर से वारकर उसे किसी मंदिर में या गरीब को दान कर दें। यह कार्य आप एक बार भी कर सकते हैं। यह कार्य शनिवार को करें तो ज्यादा अच्छा है।


2. यदि किसी भी प्रकार का रोग है तो काला और सफेद दोरंगी कंबल लें और 21 बार खुद पर से वार कर किसी गरीब को दान कर दें।

3. यदि कुंडली में केतु की स्थिति ठीक नहीं है या है तो भी आप कंबल दान कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :