अजब-गजब, बोल अनमोल

WD|
FILE
दोस्ती उनसे बढ़ाइए जिनका नजरिया दूरगामी हो।
- चाणक्य नीति

लेखनी मस्तिष्क की जिह्वा है
- मुंशी प्रेमचं

अक्लमंद काम करने से पहले सोचता है और मूर्ख काम करने के बाद।
- महात्मा गाँध
ऋण एक अथाह सागर के समान है। ऋण लेने का अर्थ है, दुःख मोल लेना।
- जवाहरलाल नेहर

खोया समय कभी प्राप्त नहीं होता। समय ही सबसे योग्य शिक्षक है।
- स्वामी विवेकानं

साहस ही सफलता का राज है।- सिसर

अपना हाथ बढ़ाने का अर्थ है, अपने आपको विस्तार देना।
- मदर टेरेस

- सपना धनोतिया



और भी पढ़ें :