ट्यूनीशिया में हमले की प्रमुख वजह सुरक्षा में चूक

ट्यूनिस| Last Updated: रविवार, 22 मार्च 2015 (18:21 IST)
ट्यूनिस। ट्यूनीशिया के राष्ट्रपति एस्सेबसी ने कहा कि देश के राष्ट्रीय संग्रहालय पर हुए  घातक हमले के पीछे सुरक्षा में ‘चूक’ एक बड़ी वजह रही। इस हमले की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट  समूह ने ली थी और इसमें 20 विदेशी पर्यटक मारे गए थे।
शनिवार को 'पेरिस मैच साप्ताहिक' में प्रकाशित साक्षात्कार में एस्सेबसी ने कहा कि विफलताएं रही  थीं, इसका अर्थ है कि पुलिस और खुफिया सेवाएं संग्रहालय की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए  व्यवस्थागत तौर पर पर्याप्त नहीं थीं।
 
बुधवार को दो बंदूकधारियों ने राजधानी ट्यूनिस स्थित नेशनल बार्डे म्यूजियम पर हमला बोल दिया  था। इस हमले में 21 लोग मारे गए थे जिनमें से 20 लोग विदेशी थे।
 
पेरिस मैच वेबसाइट पर एस्सेबसी के हवाले से कहा गया कि सुरक्षा बलों ने बार्डे पर हुए हमले को  जल्दी खत्म करने के लिए बेहद प्रभावी ढंग से कार्रवाई की। इससे निश्चित तौर पर उन दर्जनों मौतों  को रोका जा सका, जो आतंकियों द्वारा अपनी आत्मघाती पट्टियां खोल लेने पर हो सकती थीं।
 
उप स्पीकर अब्देलफत्तह मोउरोउ ने शुक्रवार को बताया कि जिन सुरक्षाकर्मियों को संग्रहालय और  पास ही स्थित संसद की हिफाजत करनी थी, वे हमले के समय कॉफी पी रहे थे।
 
राष्ट्रपति की ये टिप्पणियां ऐसे समय पर आई हैं, जब ट्यूनीशियाई अधिकारियों ने कहा कि जांच में  प्रगति हुई है। अभियोजन पक्ष के प्रवक्ता सोफीन स्लिटी ने बताया कि इस मामले में प्रगति हुई है लेकिन जांच की  गोपनीयता की सुरक्षा के लिए हम कोई जानकारी नहीं देना चाहते।
 
हालांकि गृहमंत्री मोहम्मद अली अरोई ने कहा कि हमले में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष संलिप्तता के चलते  10 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें वे लोग भी शामिल हैं जिन्होंने साजोसामान  की आपूर्ति की थी। (भाषा) 



और भी पढ़ें :