ओंठ पर है पलाश की लाली

फागुनी कविता

-चंद्रसेन 'विराट'
तुम पे हर एक रंग फबता है।



और भी पढ़ें :