जानिए फलों और सब्जियों में पाए जाने वाले विटामिन और पोषक तत्वों की सूची


महंगाई के दौर में भी स्वास्थ्य का ख्याल रखना बेहद जरूरी है। क्योंकि दूसरी और कोरोना काल का प्रकोप भारी है। ऐसे में अधिक से अधिक फल और सब्जियां खाने की सलाह दी जा रही है। क्योंकि रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने पर जल्द ही कोरोना की चपेट में आ सकते हैं। फल और सब्जियों के माध्यम से शरीर को जरूरी पोषक तत्व मिलने पर बीमारी की चपेट में आने से बचा जा सकता है। हालांकि हर फल और सब्जियों में अलग-अलग पोषक तत्व होते हैं। कई बार पता नहीं होने पर सही से उनका सेवन नहीं भी कर पाते हैं।

तो आइए जानते हैं कम कीमत में कौन से फल और सब्जियों का सेवन किया जाएं ताकि सेहत भी बने रहे और जेब पर महंगाई का असर नहीं पड़ें।

विटामिन ए: त्वचा, आंख और शरीर के विकास में विटामिन ए वृद्धि के लिए अच्छा स्रोत होता है। विटामिन ए के सेवन से सबसे अधिक आंखों की बीमारी में आराम मिलता है। इसकी कमी होने पर गाजर, सोयाबीन, कद्दू, चुकंदर, टमाटर हरे पत्तेदार सब्जी, आम, पपीता में भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

विटामिन बी- विटामिन बी में अन्य विटामिन मौजूद होते हैं जैसे राइबोफ्लेविन, निकोटिनिक एसिड, फोलिक एसिड, विटामिन- बी12 । इसकी कमी होने पर वजन घटना, भूख नहीं लगना, बेरी-बेरी जैसी समस्या उत्पन्न होने लगती है। इसकी कमी को पूरा करने के लिए पत्ता गोभी, हरे प्याज, गाजर, सलाद, संतरा, नींबू जरूर खाएं।

विटामिन सी- विटामिन सी की कमी होने पर कई सारी छोटी-मोटी बीमारी होने लगती है। जैसे दांतों का दुखना, मसूड़ों से खून आना, स्कर्वी बीमारी, रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होना। विटामिन सी कई सारे फल और सब्जियों में पाया जाता है। फल में संतरा, मौसमी, अंगूर खा सकते हैं। सब्जियों में अंकुरित मूंग, चना, हरी और लाल मिर्च, पालक, सरसों का साग, आलू, टमाटर, नींबू में मुख्य रूप से पाया जाता है।

विटामिन डी- विटामिन डी की कमी होने पर डिप्रेशन, हड्डियों में कमजोरी, नींद की कमी होने लगती है। विटामिन डी की कमी होने पर सूरज की रोशनी लेने की सलाह दी जाती है। साथ ही विटामिन डी से भरपूर फल और सब्जियों का सेवन भी करना चाहिए। संतरे का एक कप ज्यूस पीने से विटामिन डी की कमी पूरी होती है। संतरे का ज्यूस हड्डियों को भी मजबूत करता है। संतरे में विटामिन सी, फोलेट और पोटेशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। दूध, मशरूम भी विटामिन डी की पूर्ति करते हैं।

कैल्शियम- कैल्शियम की कमी होने पर हड्डिया और दांत कमजोर पड़ने लगते हैं। ऐसे में पालक, दूध, गुड़, मटर, मूंगफली, सिंघाड़ा, सूर्यमुखी के बीज, संतरा, दलिया, लौंग, काली मिर्च, आम, जायफल, रागी, बाजरा, आंवला, इन चीजों का सेवन कर कैल्शियम की कमी को पूरा किया जा सकता है।

कार्बोहाइड्रेट- इसकी पूर्ति होने पर शरीर में पर्याप्त मात्रा में कैलोरी और ताकत होती है। मटर, केला, शकरकंद, आलू में कार्बोहाइड्रेट मौजूद होता है।

प्रोटीन- प्रोटीन मानव शरीर के विकास और रखरखाव के लिए बहुत अहम होता है। शरीर में पानी की कमी के बाद प्रोटीन आवश्यक तत्व होता है। हमारे शरीर में 18 से 20 फीसदी प्रोटीन की मात्रा होती है। इसकी कमी से मांसपेशियों में दर्द, रोग प्रतिरोधक क्षमता घटती, कमजोरी, थकावट, बाल और नाखून पर असर होता है। ऐसे में अमरूद, चना मटर, मूंग, सोयाबीन, मूंगफली, आलूबुखारा, देसी चना, राजमा, फूल गोभी, सुरजना फली में मुख्य रूप से पाया जाता है।




और भी पढ़ें :