Corona का U टर्न : महाराष्ट्र में बेकाबू होता कोरोना, फिर भी नहीं सुधर रहे 'माननीय'

Last Updated: मंगलवार, 23 फ़रवरी 2021 (16:33 IST)
महाराष्ट्र में एक बार फिर (Coronavirus) अपने पांव पसार रहा है। यहां पिछले कुछ दिनों से औसत 4600 मामले रोज आ रहे हैं। 22 फरवरी को ही राज्य में 5000 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। दूसरी ओर, राज्य के 'माननीय' ही शादी-पार्टियों की शोभा बढ़ा रहे हैं और कुछ तो भीड़ जुटाने में भी पीछे नहीं रह रहे हैं। यह हालात तब हैं जब मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे लोगों को कड़े शब्दों में लॉकडाउन (Lockdown) लगाने की चेतावनी दे चुके हैं। यवतमाल और अमरावती में तो लॉकडाउन लगाया भी चुका है।

कोरोना की बढ़ती घटनाओं के कारण राज्य में मंगलवार से बड़ी राजनीतिक, सामाजिक और धार्मिक आयोजनों पर प्रतिबंध लगाया जा रहा है। पुलिस को भी ऐसे लोगों के खिलाफ जुर्माना लगाने के लिए कहा गया है, जो बिना मास्क के सड़कों पर नजर आते हैं। यह जानकारी खुद मुंबई पुलिस के कमिश्नर परमवीर सिंह ने ट्‍वीट कर साझा की है।

बोर्ड परीक्षाएं ऑफलाइन : दूसरी ओर, राज्य के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने फेक न्यूज और अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की बात कही है। वहीं, सरकार ने 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं ऑफलाइन कराने का ही फैसला किया है। हालांकि यह बातें भी सामने आ रही हैं कि राज्य में भव्य शादियों और पार्टियों का दौर जारी है। इसी दौरान राज्य के मंत्री छगन भुजबल की कोरोना रिपोर्ट भी ‍पॉजिटिव आई है।

मंत्रीजी ही उड़ा रहे हैं नियमों की धज्जियां : महाराष्ट्र के ही एक मंत्री संजय राठौड़ ने सरेआम कोरोना गाइडलाइंस की धज्जियां उड़ाते हुए अपने समर्थकों की भीड़ जुटाई। इन मंत्री जी का नाम हाल ही में एक युवती की मौत के चलते भी सुर्खियों में आया था। दरअसल, महाराष्ट्र के वन मंत्री राठौड़ मंगलवार को वाशिम जिले में स्थित पोहरादेवी मंदिर में पूजा करने पहुंचे।
राठौड़ यवतमाल स्थित अपने आवास से सड़क मार्ग से पड़ोसी जिले वाशिम गए। यह मंदिर बंजारा समुदाय के लिए बहुत महत्वपूर्ण है और राठौड़ इसी समुदाय से आते हैं। मंदिर में बड़ी संख्या में मंत्री के समर्थक उपस्थित थे। शिवसेना नेता राठौड़ अपने गृह जिले यवतमाल के प्रभारी मंत्री भी हैं।
महाराष्ट्र के दिग्गज नेता और पूर्व मुख्‍यमंत्री शरद पवार ने जरूर कर अपनी जिम्मेदारी का अहसास कराया। उन्होंने कहा कि कि वह अपने सभी नियोजित कार्यक्रमों को रद्द कर रहे हैं। उन्होंने कहा- मैंने कोरोना के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए और माननीय मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री द्वारा की जा रही अपील के मद्देनजर अपने सभी नियोजित सार्वजनिक कार्यक्रमों को रद्द कर दिया है। हालांकि पवार भी हाल ही में एक विवाह समारोह में नजर आए थे।
पाबंदियां भी शुरू : अमरावती मंडल के चार अन्य जिलों अकोला, वाशिम, बुलढाणा और यवतमाल में भी कुछ पाबंदियां लगाई गई हैं। यहां आवश्यक सामान की दुकानों को छोड़कर सभी दुकानें, सरकारी और निजी शैक्षणिक संस्थान बंद रहेंगे। लोगों को सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक ही सामान खरीदने की छूट होगी। अमरावती में भी 22 फरवरी से लॉकडाउन शुरू हो चुका है। यह 1 मार्च सुबह 8 बजे तक जारी रहेगा।



और भी पढ़ें :