बाहर कोरोना और घर में कोबरा सांप, जाएं तो जाएं कहां

कीर्ति राजेश चौरसिया| पुनः संशोधित बुधवार, 20 मई 2020 (20:02 IST)
जहां एक सांप को देखकर पूरे शरीर में झुरझुरी दौड़ जाती है, वहीं जिले में रौन जनपद के चचाई गांव में रहने वाला एक परिवार कई सांपों का सामना कर रहा है। यह परिवार सांपों से बुरी तरह डरा हुआ है। परिजनों का कहना है कि बाहर कोरोना (Corona) है और घर के भीतर कोबरा, आखिर जाएं तो कहां जाएं।

यह व्यथा है जीवनसिंह कुशवाह के परिवार की। जानकारी के मुताबिक चचाई गांव के रहने वाले जीवन के घर में एक-दो नहीं 100 से ज्यादा सांप निकल चुके हैं। इससे परिवार दहशत में है। पिछले 8 दिनों में कुशवाह के घर से 123 छोटे बड़े सांप निकल चुके हैं। परिवार का कहना है कि घर के बाहर कोरोना है और घर में खतरनाक कोबरा। ऐसे में परिवार की बड़ी ही विचित्र स्थिति हो गई है।

जीवन के घर पिछले 8 दिन से जानलेवा किंग के बच्चे निकल रहे हैं। अब तक वे अपने घर से 123 सांप पकड़ चुके हैं। कुशवाह का चचाई गांव बिरखड़ी ग्राम पंचायत के तहत आता है। परिवार को कोरोना से ज्यादा सांपों से डर लग रहा है। सभी लोग घर के बाहर गुजारा करने को मजबूर हैं।
अभी तक छोटे बड़े करीब 123 सांप घर के सदस्यों ने पकड़े हैं। एक दिन 21 तो दूसरे दिन 52 सांप निकल चुके हैं। दो से चार सांप तो प्रतिदिन निकल रहे हैं। उन्होंने प्रशासन से मदद की गुहार लगाई है, लेकिन उन्हें अभी तक कोई मदद नहीं मिली है।

गांव वालों की मानें यह सांप किंग कोबरा है, जो कि जहरीला और जानलेवा होता है। जीवनसिंह का कहना है कि वे लोग पिछले कई दिनों से सोए नहीं हैं।
परिवार के सदस्य कभी खेतों में तो कभी घर के बाहर समय काट रहे हैं। कुर्सी पर बैठे-बैठे उन्हें निगरानी करनी पड़ती है। कुशवाह के मुताबिक ये सांप अमूमन 7 से 8 बजे के बाद ही निकलते हैं। हालांकि लगातार घर में सांप निकलने की वजह का भी अभी तक पता नहीं चला है।




और भी पढ़ें :