23 अप्रैल से गुरु ने बदल दी है अपनी चाल, जानिए 12 राशियों के हाल

के लिए बृहस्पति वक्री हो गए हैं। इस अवस्था में बृहस्पति की गति और दृष्टि पीछे की ओर रहेगी। वक्री होते समय बृहस्पति का विभिन्न राशि के लोगों पर इस प्रकार प्रभाव पड़ेगा।

मेष- व्यय में वृद्धि दांपत्य जीवन में कटुता तथा पेट संबंधी रोग होने की संभावना रहेगी।

वृष- देव गुरु बृहस्पति भाइयों से प्रेम की वृद्धि, कार्य क्षेत्र में प्रगति दिलाएंगे।

मिथुन- व्यय में वृद्धि होगी रोग से कष्ट होगा, ऋण में वृद्धि होने की संभावना।

कर्क- विद्या में प्रगति, भाग्य में उन्नति, आय के नए अवसर प्राप्त होंगे।
सिंह- पेट के कष्ट, नौकरी और व्यवसाय में प्रगति, किंतु व्यय में वृद्धि।

कन्या- वक्री गुरु लाभकर है। संतान की प्रगति और धन में वृद्धि होगी।

तुला- रोग में वृद्धि होगी, मित्रों से कष्ट मिल सकता है, परिवार से कष्ट मिलने की आशंका है।

वृश्चिक- 11 अगस्त तक का समय अति उत्तम रहेगा, पिछले सभी कष्ट दूर होंगे। आगे बढ़ने के अवसर प्राप्त होंगे।
धनु- ज्ञान में वृद्धि होगी। जीवनसाथी को कष्ट हो सकते हैं और संतान से कष्ट मिलने का योग बनता है।

मकर- वक्री गुरु के प्रभाव से संतान से सुख प्राप्त करेंगे और विद्या में प्रगति होगी। कार्यक्षेत्र में अवसर प्राप्त होंगे।

कुंभ- पेट के कष्ट हो सकते हैं, कार्य क्षेत्र में प्रगति मिलेगी। मित्रों और जीवनसाथी से सहयोग की प्राप्ति होगी।
मीन- भाई से सुख की प्राप्ति होगी, कार्यों में सफलता मिलेगी और आय में वृद्धि होगी।


और भी पढ़ें :