मीन 2019 का संपूर्ण वार्षिक भविष्यफल : धन-संपत्ति, घर-परिवार, परीक्षा-प्रतियोगिता-करियर और सेहत जानिए सब एक साथ

Pisces 2019

मीन राशि के जातक श्रद्धालु और धार्मिक प्रवृत्ति के होते हैं। आदर्शवादी और जिज्ञासु होते हैं। परमार्थ और जनकल्याण की भावना से भी ओतप्रोत रहते हैं।

मीन राशि वाले हष्ट-पुष्ट व उत्तम कद-काठी के होते हैं। ये ज्ञानवान होकर बड़ों का आदर करने वाले होते हैं। ये ईश्वर से डरने वाले होते हैं। इनका पारिवारिक जीवन उत्तम कहा जा सकता है। गुरु की उच्च स्थिति ज्योतिष कर्मकांड में सफलता का कारक होती है।

मीन राशि : इस वर्ष जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। कार्य मनोनुकूल रहेंगे।

व्यवसाय- पूंजी की व्यवस्था समय पर होगी। व्यापार में उन्नति होगी। प्रयास भरपूर करने पड़ेंगे। कुछ मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। जोखिम सोच-समझकर लें। व्यवसाय का विस्तार होगा। नए कार्य मिल सकते हैं। नौकरी में अनुकूलता रहेगी। नए उपक्रम प्रारंभ करने के प्रयास सफल रहेंगे।

धन-संपत्ति- स्थायी संपत्ति के निर्माण व खरीदी आदि पर अधिक खर्च होगा। नए बाजार की उपलब्धता होगी। परिवार में मतभेद से संपत्ति बंट सकती है। संचित कोष में कमी हो सकती है। कर्ज लेना पड़ सकता है। रुका हुआ धन रुका ही रहेगा। समय पर धन की व्यवस्था नहीं होने से बाधा संभव है।

घर-परिवार- पारिवारिक मतभेद व उलझनें सामने आएंगे। घर में मांगलिक कार्यों पर अधिक व्यय होगा। आपकी भावनाओं को लोग नहीं समझ पाएंगे। किसी सदस्य के स्वास्थ्य पर अधिक व्यय होगा। जवाबदारी बढ़ेगी। अधिकार बढ़ नहीं पाएंगे। घर में तनाव रहेगा।

स्वास्थ्य- पेट के रोग, डायबिटीज व रक्तचाप से पीड़ा हो सकती है। चिंता तथा तनाव से निद्रा में कमी रह सकती है। चोट व दुर्घटना से हड्डी की टूट-फूट हो सकती है। जकड़न व मोच से बाधा संभव है।

परीक्षा-प्रतियोगिता-करियर- परीक्षा-प्रतियोगिता में मेहनत का फल मिलेगा। स्थान व विषय संबंधी बाधा किसी विद्वान व्यक्ति के मार्गदर्शन से दूर होगी। तनाव व स्वास्थ्य संबंधी समस्या से एकाग्रता में कमी होगी। बनते काम बिगड़ सकते हैं।

यात्रा-प्रवास-तबादला- नौकरी में घर से दूर तबादला हो सकता है। इस वर्ष कार्य व स्थान परिवर्तन के योग हैं। परिवार व मित्रों के साथ किसी लंबी मनोरंजक यात्रा पर जा सकते हैं। अध्ययन हेतु बाहर जाना पड़ सकता है। तीर्थयात्रा हो सकती है।

धार्मिक कार्य- इस वर्ष धार्मिक, आध्यात्मिक व तांत्रिक अनुष्ठानों को करने तथा इसमें भाग लेने का अवसर मिलेगा। भागवत, रामायण पाठ व श्रवण का लाभ प्राप्त होगा। तंत्र-मंत्र में रुचि बढ़ेगी।

कल्याणकारी उपाय- शिव-दुर्गा की पूजन-अर्चना, मंत्र-स्तोत्र व पाठ-जप करने से कष्ट में कमी होगी। गरीब विद्यार्थियों की सहायता करें। पक्षियों को दाना चुगाएं।




और भी पढ़ें :