प्यार में अब यकीं नहीं मिलता

प्यार में अब यकीं नहीं मिलता,

जिस्म ही आदमी का मिलता है,

जिस्म में कहीं दिल नहीं मिलता - अज़ीज़ अंसारी


सम्बंधित जानकारी


और भी पढ़ें :