फर्शी है या स्टेथस्कोप

एड्स जैसे लाइलाज रोग ठीक करने का दावा

Shruti AgrawalWD
हम तड़के ही रघुनाथ बाबा के आश्रम पहुँचे। आश्रम में बड़ा सा हॉल था। इस हॉल में सैकड़ों लोग कतार लगाकर बैठे थे....वहीं एक दीवान पर 40-45 साल की उम्र के व्यक्ति मरीज के सिर पर फर्शी रखकर कुछ बोल रहे थे...पास ही बैठे कुछ लोग मरीजों के लिए दवाई लिख रहे थे।

हम कुछ नजदीक गए और यहाँ का नजारा देख कर चौंक गए। रघुनाथ दास नामक यह व्यक्ति किसी भी मरीज के सिर पर फर्शी रखने के बाद “तुम्हारा बल्ड शुगर कम हो गया है काउंट इतने-इतने के बीच ह” से लेकर “बीपी इतने से इतने के बीच है’’ आदि बताते हुए मरीज को कैंसर है या एड्स या ट्यूमर आदि बता रहे थे।

लेकिन खेल तो अभी शुरु हुआ था ... कुछ देर बाद ही कतार में बैठे एक मरीज ने एक कपड़ा बाबा के सामने रख दिया। बाबा ने झट से कपड़े के ऊपर फर्शी रखी और बीमार का हाल बताने लगे। फिर एक मरीज ने अपनी बीवी का फोटो दिखाकर उसका हाल पूछा। बाबा ने फर्शी फोटो पर रखी और बीमारी के बारे में भी सब बता दिया।

फर्शी वाले बाबा पर आरोप-
अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के कार्याध्यक्ष डॉ. नरेंद्र दाभोलकर ने फर्शी वाले बाबा पर आरोप लगाया है कि वे प्रशिक्षित डॉक्टर नहीं हैं। उन्होंने 21 अप्रैल 2006 इनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई थी लेकिन इस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

काफी देर तक यह सिलसिला चलता रहा...लोग आते गए बाबा उनके, मरीज के कपड़े के और फोटो के ऊपर फर्शी रखकर उसका हाल बताते रहे। हमने बाबा के सहयोगियों से बाबा से मुलाकात करवाने की इच्छा जाहिर की।

WD|
-श्रुति अग्रवालहमारा देश भारत कई गूढ़ विद्याओं वाला देश है। यहाँ तंत्र-मंत्र और जड़ी-बूटियों से कई असाध्य बीमारियों को ठीक करने के दावे किए जाते हैं, लेकिन हर बार ये दावे सच नहीं होते। देखा जाए तो अक्सर ढोंगी बाबा लाइलाज बीमारियों से परेशान बेबस मरीजों को ठग कर उनकी भावनाओं से खिलवाड़ करते हैं। की कड़ी में हम आपकी मुलाकात ऐसे ही एक बाबा से करा रहे हैं जो पत्थर की एक फर्शी और कुछ जड़ी-बूटियों की मदद से एड्स, कैंसर, जैसी बीमारियों को ठीक करने का दावा करते हैं। अब यह असली है या ठग इसका फैसला आपके ऊपर है... हम आपको हमारी मुलाकात का आँखों देखा हाल बता रहे हैं।फोटो गैलरी देखने के लिए यहाँ क्लिक करेंत्र्यंबक यात्रा के दौरान हमने सुना नासिक-त्र्यंबक रोड पर रघुनाथ दास नामक बाबा का आश्रम है। इन्हें लोग ‘फर्शी वाले बाब’ के नाम से बुलाते हैं। इनका दावहै कि ये आपके सिर पर सिर्फ एक फर्शी रखकर आपकी बीमारी बता सकते हैं। वो भी ऐसी वैसी नहीं बल्कि और जैसी लाइलाज बीमारी। इसके साथ ही वे इन लाइलाज बीमारियों को ठीक करने का दावा भी करते हैं। हमने सोचा इस बार उनके इस दावे को आजमा लिया जाए...
इन लोगों ने हमसे कहा- आप बगीचे में चलिए बप्पा (बाबा को इसी संबोधन से पुकारते हैं) वहीं आ जाएँगे। रघुनाथजी के बगीचे में कई तरह की औषधियों के पौधे लगे थे वहीं कई तरह के कैक्टस भी लगाए गए थे। हम बगीचा निहार ही रहे थे कि रघुनाथ दास वहाँ आ गए। रघुनाथ दास ने हमें बताया कि वे जड़ी-बूटियों से दवाइयाँ तैयार करते हैं। इन दवाइयों से एड्स और कैंसर के रोगी भी ठीक हो सकते हैं।


और भी पढ़ें :