0

यहां लगता है भूतों का मेला, चढ़ता है खुद के वजन का गुड़

मंगलवार,फ़रवरी 5, 2019
0
1
कुर्सियांग भारत के पश्चिम बंगाल प्रान्त का एक शहर है। दरअसल कुर्स‌ियांग दार्जल‌िंग का एक ह‌िल स्टेशन है। इसकी ऊंचाई 4864 फीट है।
1
2
प्राचीन भारत के लोग स्वर्ण बनाने की विधि जानते थे। वे पारद आदि को किसी विशेष मिश्रण में मिलाकर स्वर्ण बना लेते थे, लेकिन क्या यह सच है? यह आज भी एक रहस्य है। प्राचीन भारत में बगैर किसी 'खनन' के बावजूद भारत के पास अपार मात्रा में सोना था। मंदिरों में ...
2
3
हम आपको एक ऐसे सरोवर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसमें स्नान करने के बाद आपके सारे पाप समाप्त हो जाते हैं और पुनः साफ-सुथरे मन से आप आगे का जीवन जीने के लिए अग्रसर हो सकते हैं। ऐसा हम नहीं कह रहे हैं, इस सरोवर से जुड़ी कथाएं व यहां के लोगों की ...
3
4
आज हम आपको एक ऐसे अद्भुत कुएं के बारे में बताने जा रहे हैं जिसको लेकर अजीबोगरीब किस्से व कहानियां जुड़ी हुई हैं। पहले तो हमें भी विश्वास नहीं हुआ। पर जब वहां जाने का मौका मिला तो हम भी आस्था का सैलाब देखकर इस अद्भुत कुएं से जुड़ी कहानियों पर यकीन ...
4
4
5
पटना। कहते हैं कि पत्थर में भी जान होती है। निश्चित ही मूर्ति एक पत्थर की होती है, लेकिन जिस भी देवी या देवता की यह मूर्ति बनाई गई है उन देवी या देवताओं के अस्तित्व और उनकी शक्ति को नहीं नकारा जा सकता। आए दिन देवी या देवता अपने होने का अहसास कराते ...
5
6
दुर्गा माता मंदिर, ग्राम गड़ियाघाट, पानी का दीया, जल की ज्योति, नलखेड़ा, कालीसिंध, चमत्कारिक मंदिर भारत में माता दुर्गा के कई चमत्कारिक मंदिर है। इसी तरह का एक और माता का चमत्कारिक मंदिर मध्यप्रदेश के मालवा में शुजालपूर जिले की तहसील नलखेड़ा से 15 ...
6
7
कुछ वैज्ञानिक भी धरती को नष्ट करना चाहते हैं। वे भी यदाकदा इस तरह की भविष्यवाणी करते रहते हैं। उनके अनुसार धरती से किसी दूसरे ग्रह की टक्कर या उल्कापिंड के गिरने की वजह से ऐसा हो सकता है। ऐसी घोषणा में पहले भी उन्होंने कई तारीखें बताई लेकिन मामला जम ...
7
8
देवास के के पास बिलावली गांव में स्थित महाकालेश्वर शिव मंदिर का शिवलिंग प्रतिवर्ष एक तिल बढ़ता जा रहा है। मंदिर के आसपास रहने वाले और यहां नियम से दर्शन करने आने वाले लोगों का कहना है कि यहां का शिवलिंग न सिर्फ स्वयंभू है, बल्कि हर साल इसकी ऊंचाई ...
8
8
9
हर साल गुरु भगवान एक राशि से दूसरी राशि में उतरते हैं। इस बार वह वृश्चिक राशि से धनु राशि में गए हैं। गुरु पयारची के मौके पर लाखों श्रद्धालु अलनगुड़ी, थेनथिरुथिट्टई, थिरुचेंदूर जैसे गुरु भगवान के प्रसिद्ध मंदिरों में जाते हैं। सौरमंडल के गुरु ग्रह ...
9
10
काल भैरव का यह चमतत्कारि मंदिर उज्जैन में लगभग छह हजार साल पुराना माना जाता है। यह एक वाम मार्गी तांत्रिक मंदिर है। वाम मार्ग के मंदिरों में मांस, मदिरा, बलि, मुद्रा जैसे प्रसाद चढ़ाए जाते हैं। प्राचीन समय में यहां सिर्फ तांत्रिकों को ही आने की ...
10
11
आल्हा और ऊदल दो भाई थे। ये बुन्देलखण्ड के महोबा के वीर योद्धा और परमार के सामंत थे। कालिंजर के राजा परमार के दरबार में जगनिक नाम के एक कवि ने आल्हा खण्ड नामक एक काव्य रचा था उसमें इन वीरों की गाथा वर्णित है। इस ग्रंथ में दों वीरों की 52 लड़ाइयों का ...
11
12
जलिकट्टू तमिलनाडु का लोकप्रिय खेल है, जिससे लोगों की भावनाएं जुड़ी हैं। तमिल लोगों के बीच पोंगल उत्सव के समय जलिकट्टू सबसे अधिक पसंदीदा खेल है। यह बैलों से जुड़ा एक पारंपरिक खेल है, जिसका पुराना इतिहास है।
12
13
साईं बाबा संत थे या भगवान, यह सवाल भले ही उठाया जा रहा हो, आस्था का कोई जवाब नहीं। बुंदेलखंड क्षेत्र के झांसी जनपद में स्थित रेवन और ककवारा गांवों के बीच लिंक रोड पर कुतिया महारानी मां का एक मंदिर है, जिसमें काली कुतिया की मूर्ति स्थापित है। आस्था ...
13
14
दुनियाभर में ऐसे कई स्थान है जिन्हें शापित माना जाता है। अर्थात किसी शाप के चलते अब यह या तो भुतहा है या फिर उजाड़ पड़े हैं। हालांकि ऐसे भी स्थान है जो किसी शाप के चलते अब एक तीर्थ बन गए हैं।
14
15
दुनिया भर में सबसे बड़ा रोड नेटवर्क भारत में है। इन सड़कों में से अधिकतर तो कातिलाना है तो कुछ भुतहा है। यदि आप लांग रूट पर जा रहे हैं तो इन भुतहा सड़कों से बचकर रहें या रात होने से पहले ही इन सड़कों को पार कर जाएं अन्यथा हो सकता है कि आपके साथ कोई ...
15
16
यह कहना गलत ना होगा कि सृष्टि के कण-कण में शिव समाए हुए हैं और यह दुनिया उनकी शक्ति की एक अभिव्यक्ति मात्र है। भगवान भोलेनाथ की महिमा असीम और अपार है। वे स्वयं जितने निराले हैं तो उनके मंदिर भी उतने ही अनोखे हैं।
16
17
भारत चमत्कारों और आस्था का देश है। कश्मीर से कन्याकुमारी तक कई चमत्कारिक मंदिर, दरगाह, गांव, साधु, संत, तांत्रिक और रहस्यमय गुफाएं मिल जाएंगी। अब इसे आप चमत्कार कहें या अंधविश्‍वास, लेकिन एक शहर में एक ऐसा भी स्थान हैं, जहां जाकर लोग हमेशा-हमेशा के ...
17
18
आस्था और अंधविश्वास की इस बार की कड़ी में हम आपको ले चलते हैं उज्जैन जिले के चिखली ग्राम में जहाँ ऐसी मान्यता है कि यदि रावण को पूजा नहीं गया तो पूरा गाँव जलकर भस्म हो जाएगा।
18
19

स्पर्श से भगाएँ रोग...

शनिवार,अक्टूबर 20, 2012
जी हाँ, आस्था और अंधविश्वास की इस कड़ी में हम आपकी मुलाकात करवा रहे हैं केरल के आचार्य एमडी रवि मास्टर से। एमडी मास्टर खुद को ‘ब्रह्मगुरु’ कहते हैं। इनका दावा है कि वे सिर्फ स्पर्श के माध्यम से व्यक्ति को स्वस्थ कर सकते हैं उसके नकारात्मक विचारों
19