ओलिम्पिक की उलटी गिनती शुरू

PR
जब डेविस का ध्यान ओलिम्पिक खेलों के अधूरे कामों की तरफ दिलाया गया तो उन्होंने कहा कि समय रहते सभी काम पूरे कर लिए जाएँगे और एशिया महाद्वीप में होने वाला यह भव्य आयोजन पूरी गरिमा के साथ सम्पन्न होगा। उन्होंने कहा कि इस वक्त हमें आप सबकी मदद की जरूरत है और हमारे इस अभियान में आप सहयोग करें।

8 अगस्त से ओलिम्पिक खेलों का आगाज होने जा रहा है। अब तक की तैयारियों को देखें तो पता चलता है कि अभी भी कई कार्य अधूरे पड़े हैं। कुछ स्टेडियमों के निर्माण कार्य फिनिशिंग टच पर हैं तो 2 सब-वे के साथ-साथ एक रेलवे लाइन बिछाने का कार्य भी शेष है। हालाँकि बीजिंग ओलिम्पिक खेलों की आयोजन समिति को पूरी उम्मीद है कि समय रहते सभी निर्माण कार्य खत्म कर लिए जाएँगे।

सबसे बड़ी चुनौती प्रदूषण : पूरी दुनिया में प्रदूषण एक समस्या बना हुआ है और हर देश इससे निजात पाने के लिए अपने-अपने तरीके से उपाय भी कर रहा है। चीन ने भी ओलिम्पिक खेलों के लिए प्रदूषण को समस्या माना और जुलाई महीने के तीसरे सप्ताह से इस पर कड़े तौर पर पालन करने का ऐलान भी कर दिया है।

एक करोड़ 70 लाख की आबादी वाले बीजिंग शहर में आगामी 20 जुलाई से 20 लाख कारें सकड़ पर नहीं दौड़ेंगी। यह प्रतिबंध समूचे ओलिम्पिक आयोजन तक जारी रहेगा। इन कारों को सड़क पर इसलिए प्रतिबंधित किया जा रहा है ताकि प्रदूषण न फैले और चीन पूरी दुनिया के सामने अपनी आदर्श छवि प्रस्तुत कर सके।

ओलिम्पिक के कारण बीजिंग में सीमेंट और स्टील के कारखानों में काम करने वाले लोगों को भी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। स्थानीय प्रशासन ने फैसला किया है कि यहाँ पर प्रदूषण नहीं फैले इस लिहाज से इन कारखानों को बंद कर दिया जाएगा। यहाँ का प्रशासन यह बताने में असमर्थ है कि बंद के दौरान इन कारखानों में काम करने वाले लोगों की रोजी-रोटी का क्या होगा?

अत्याधुनिक मीडिया सेंटर : मंगलवार को जब ओलिम्पिक खेलों के अत्याधुनिक मीडिया तथा ब्रॉडकास्टिंग सेंटर का शुभारंभ हुआ तो वहाँ मौजूद मीडियाकर्मी दंग रह गए। यह प्रेस सेंटर अब तक हुए ओलिंपिक खेलों का सबसे भव्य है। यहाँ पर 5 हजार 600 पत्रकार और प्रेस फोटोग्राफर अपने-अपने नियोक्ताओं को ओलिंपिक का कवरेज भेज सकेंगे। कम्प्यूटर से लेकर लीज लाइनों का परीक्षण किया जा चुका है और कुछ पत्रकारों ने तो मीडिया सेंटर का उपयोग करना भी प्रारंभ कर दिया है।

सुरक्षा भी बनी चुनौती : बीजिंग ओलिम्पिक खेलों में आयोजन सम‍िति के सामने खिलाड़ियों की सुरक्षा सबसे बड़ा मुद्दा होगा। चीन में तिब्बतियों पर होने वाले जुल्म की वहज से ओलिम्पिक के दौरान कई तिब्बति दुनिया का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने के लिए प्रदर्शन कर सकते हैं। चीन में तिब्बतियों के अलावा अन्य सरकार विरोधी दल भी सक्रिय हो सकते हैं।

WD|
-वेबदुनिया न्यूज मंगलवार को बीजिंग ओलिम्पिक खेलों के मीडिया और ब्रॉडकास्टिंग सेंटर के भव्य उद्‍घाटन के साथ ही खेलों के 'महाकुंभ' कहे जाने वाले ओलिम्पिक खेलों की उलटी गिनती शुरू हो गई है। मीडिया सेंटर के उद्‍घाटन के मौके पर अंतरराष्ट्रीय ओलिम्पिक समिति की प्रवक्ता गिसेले डेविस भी मौजूद थीं।
अब तक 40 अरब डॉलर का खर्च : ओलिम्पिक खेल अभी शुरु होने में 30 दिन का समय शेष है लेकिन आयोजन समिति ने इन खेलों पर अब तक व्यय किए खर्च का मीडिया को जो ब्योरा दिया है, वह 40 अरब डॉलर का है। यह पैसा स्टेडियमों के निर्माण और आधारभूत संरचना पर खर्च किया गया है। इसमें कोई शक नहीं जो स्टेडियम तैयार हो चुके हैं, वे इतने अधिक चित्ताकर्षक हैं कि उन्हें देखते ही रहने का मन करता है।



और भी पढ़ें :